Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

डॉ मधु त्रिवेदी

Others


2.6  

डॉ मधु त्रिवेदी

Others


नया दौर

नया दौर

1 min 255 1 min 255

फैशन की दौड़ में सब आगे है

शायद यहीं नया दौर है

मम्मी पापा है परम्परावादी

मूल्यों की वे आधारशिला

वक्त ने बदला है उनको बेजोड़


पर मानस में है पुरानी सोच

शायद यहीं नया दौड़ है

भारतीय सभ्यता की है बेकद्री

पाश्चात्य सभ्यता को है ताली

पारलर सैलून खूब सजते

हजारों चेहरे यहाँ पूतते है

मेहनत के धन का दुरूपयोग है


बेबसियों का कैसा दौर है

शायद यहीं नया दौर है

बाला सुंदर सुंदर सजती है

मियाँ जी की कमाई बराबर करती है

टेन्शन खूब बढ़ाती है

अपने को चाँद बना दिखलाती है


प्रिय प्राणेश्वर की दीवानी है

हरदम न्यौछावर रहने वाली है

शायद यही नया दौर है

हिन्दी पर अंग्रेजी हावी है

भाषा बोलने में ख़राबी है

अंग्रेजी अपनी दासी है


हिन्दी कंजूसी सिखाती है

ना हम हिंदूस्तानी है

बाजार जब मैं जाती हूँ

मम्माओं को स्कर्ट शर्ट,जीन्स टॉप

पहना हुआ पाती हूँ

मम्मा बेटी में नहीं लगता अन्तर

बेटी से माँ का चेहरा

सुहाना है लगता

शायद यहीं नया दौर है


अंग्रेजी पढ़ना शान है

हिन्दी से हानि है

नयी पीढ़ी यहीं समझती है

इसलिये हिन्दी अंग्रेजी गड़बड़ाती

नौनिहालों का बुरा हाल है

माँ को मॉम कह कर

पिता को डैड कह कर

हिन्दुस्तान का सत्यानाश है

शायद यहीं नया दौर है


बुजुर्ग वृद्धाश्रम की आन है

घर में नवविवाहिता का राज है

मर्द भी भूल गया पावन चरणों को

जिनकी छाया में में बना विशाल वट है

संस्कृति, मूल्यों का ह्रास हो रहा

पाश्चात्य रंग सभी पर निखर रहा

शायद यही नया दौर है ।



Rate this content
Log in