Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

ख़ुदा की थोड़ी सी बात समझी है

ख़ुदा की थोड़ी सी बात समझी है

2 mins 523 2 mins 523

आकार देख इन राशियों के तारों की जगह समझी है

तैर कर समुंदरों में अब किनारों की वजह समझी है

चंन्द्रहीन रातों में जाग कर शशी की रात समझी है

पूरी नहीं लेकिन ख़ुदा की थोड़ी सी बात समझी है


पंछी को देख आसमान में उसकी उड़ान समझी है

सपूत हूँ उस माँ का जिसने मेरी भोली ज़ुबान को समझी है

बैठकर इन सरहद पर वीरों की जान समझी है

तिरंगे के हर रंग में मैने भारत की शान समझी है


सूखी पड़ी ज़मीन पर वो पहली बरसात भी समझी है

पूरी नहीं लेकिन ख़ुदा की थोड़ी सी बात तो समझी है


पन्ने पलट कर फिर पुराने किस्सों की याद समझी है

प्रेमी बनकर प्रीत से पहली मुलाकात समझी है

गाती हुई कोयल की वो मीठी आवाज़ भी समझी है

बसंत मे यूं मुस्कुराते मौसम की बहार भी समझी है

ताज़ा ताज़ा कलीयों में मकरंद की खुशबू समझी है

वहीं गुनगुनाते भवरों की कुछ गुफ्तगु भी समझी है

पर्वत में बहती नदिया की बहती सौगात भी समझी है

पूरी नहीं लेकिन ख़ुदा की थोड़ी सी बात तो समझी है


सहस्त्र हार के बाद भी एक जीत की आस समझी है

कर्ज मे डूबे शख्स की जहर की प्यास भी समझी है

शतरंज खेल वक्त के संग उसकी एक चाल भी समझी है

खेलते खेलते अगली बाज़ी अपनी औकात भी समझी है

मानता हूँ कि इस जहाँ में मैने हर चीज को समझी नहीं

जितनी भी समझी उतने में ही ये जिंदगी खास समझी है


Rate this content
Log in