Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

भोजपुरी लोक गीत – धनवा अब बोई

भोजपुरी लोक गीत – धनवा अब बोई

1 min
365



भईले भोर भिनसरवा गोरी चला खेतवा की ओरवा।

भरले खेतवा की मेड़वा हाँकी हरवा हम बइलवा।

चला बिया धनवा अब बोवाय दिहल जाव।


बरसे रिमझिम बदरवा भईले हरसित जियरवा।

चमचम चमके बिजुरिया छल छल छलके कियरिया।

चला भिंगी पनिया जियरा जुड़ाई लिहल जाव।

भईली हरियर बियवा चला करा रोपनी दीयरवा।

बाजे घंटी बैला गरवा खेतवा छलके मोर हरवा।

 खाये के अनवा घरवा जोगा लिहल जाव।


खेती खूब करबू तू गोरिया भूख से मरबू ना तहिया।

रुपया पेटवा ना भराला ,अनवा भूखिया जुड़ाला।

मोर भारत देशवा भूखिया मिटाय दिहाल जाव।

चला बिया धनवा अब बोवाय दिहल जाव।



Rate this content
Log in