Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ईश्वर है, ईश्वर नहीं है
ईश्वर है, ईश्वर नहीं है
★★★★★

© Neeraj Kumar

Others

1 Minutes   6.9K    8


Content Ranking

 

उसे ईश्वर में यक़ीन नहीं था

वह यक़ीन करना भी नहीं चाहता था

उसने खिड़की खोली

सामने एक विशाल पहाड़ था

उसे देखना था

पहाड़ के उस पार

उसने ईश्वर से कहा

कल सुबह तक हटा दो

इस पहाड़ को

मेरी खिड़की के सामने से

सुबह हुई

उसने खिड़की खोली

पहाड़ वहीं था

विशाल, अचल

वह बाहर आया

चिल्ला चिल्ला कर कहने लगा

मैं तो पहले ही कहता था

ईश्वर नहीं है

ईश्वर नहीं है

वह ख़ुश था

उसने ईश्वर को झुठला दिया था

...... नीरज कुमार नीर 

Mob 08797777598

God Poem Hindi_poem Ishwar ईश्वर नीरज #नीरज

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..