Raman Sharma

Others


3  

Raman Sharma

Others


एहसास

एहसास

1 min 7.0K 1 min 7.0K

उलझे हुऐ थे पहले से ही हम
कुछ उन्होंने उलझाऐ रखा !
क्या बीतेगी हमारे जज़्बातों पर
जानते हुऐ अनजान बताये रखा !
बढ़े थे कदम दोस्ती की तरफ़
ख़ुद को गुमनाम बताये रखा !
वफ़ाऐं असीमित हैं मन में 
हर अल्फ़ाज में बताऐ रखा !
कहीं आँखें सूखी ही ना रह जाऐं

आँसुओं को एकत्रित किऐ रखा !
काश मिल जाऐ दोस्ती उनकी 
ख़ुदा से फरियाद किऐ रखा !
समझ लेगी मन की बात को 
इंतेज़ार में ख़ुद को बैठाये रखा !
मिले थे वो वफ़ा बनकर हमें 
ख़्यालों ने रातों में जगाऐ रखा !
साथ के सिवा और आस नहीं
ज़रुरत का ध्वज लहराऐ रखा !


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design