Sneh Goswami

Children Stories


5.0  

Sneh Goswami

Children Stories


घनी छाँव

घनी छाँव

2 mins 328 2 mins 328

महानगर की रेलमपेल । चारों ओर कंक्रीट का जंगल ,कहीं कोई जान पहचान नहीं। जो जानते हैं ,वे भी अपने आप में इतने अस्त व्यस्त कि शायद ही दुआ सलाम होती हो ।

नवान को इस शहर में आए दस साल होने को हैं । यहाँ पढने आया था ,नौकरी भी यहीं ढूँढ ली और हमेशा हमेशा के लिए यहीं का हो गया ।

इस बीच शादी हो गयी , दो प्यारे से बच्चे हो गये , नीता भी एक दफ्तर में काम करने लगी । सब कुछ ठीक चल रहा था कि शहर में बच्चा चोरी और बलात्कार की घटनाएँ अचानक बढ गयीं । नवीन और नीता को अब दिन में आफिस में चैन न आता ,न रात में नींद , हरपल एक अदृश्य भय घेरे रहता । नौकरानी पुरानी थी फिर संशय नागफनी की तरह जब तब सिर उठा लेता ।

सीसीटीवी की फुटेज कई कई बार खंगाली जाती पर डर पीछा ही नहीं छोड़ रहा था ।

आज भी इन्हीं संशयों से जूझते वह घर पहुँचा तो भीतर से किलकारियों और कहकहों की आवाजें आ रही थी । ऐसा तो कभी नहीं होता । जब वे घर लौटते हैं ,बच्चे या तो कम्प्यूटर पर कार्टून देख रहे होते हैं या कोई गेम खेल रहे होते हैं । एकदम शमशान जैसी शांति पसरी होती है, अजीब सी मनहूसीयत वाली शांति ।आया बच्चों को टीवी या कम्प्यूटर में व्यस्त कर खुद कहीं और व्यस्त होती है ,पर आज तो उल्टी गंगा बह रही थी । उसने अंदर प्रवेश किया । बच्चे दादा से मस्ती में लीन उनके कंधों पर सवार थे ।

"प्रणाम पापा आप कब आए?"

"दोपहर में।"

"तू तो आता नहीं मैने सोचा मैं ही दस पंद्रह दिन लगा आऊँ।"

उसे लगा , तेज धूप में चलते- चलते अचानक एक घने बरगद की छाँव तले आ गया है।आज रात वह निश्चिंत होकर सो सकेगा ।

"पापा जब तक आपका मन करे आप रहिए।"

दोनों बच्चे टाँगों से लिपट गये -"हम आपको जाने नहीं देंगे।"

"मैं तो दरवाजा बंद कर लूँगा" ये आहिल था ।

पापा मंद मंद मुस्कुरा रहे थे ।


Rate this content
Log in