Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

RAJAN SHARMA

Others


5.0  

RAJAN SHARMA

Others


ज़िन्दगी

ज़िन्दगी

1 min 93 1 min 93

ज़िन्दगी ने आप ही सीखा दिया

तन्हा सफ़र करना

वरना हम तो अकेले चल रहे थे,

न जी रहे थे न मर रहे थे।

उनकी आवाज़ को

अपनी आवाज़ बनाना था

ऐ ज़िन्दगी,

ये कैसे मोड़पर लाके

छोड़ गई वो मुझको।

अब तो तू ही सहारा है ज़िन्दगी

और न मरने का डर न

जाती की खुशी है अब तो।




Rate this content
Log in