Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Gaurav kumar

Others

3  

Gaurav kumar

Others

पिता एक खुदा का रूप

पिता एक खुदा का रूप

1 min
349


पिता एक उम्मीद है एक आस है,

परिवार की हिम्मत और विश्वास है,

बाहर से सख्त और अंदर से नरम है,

उसके दिल में दफन कई मरम है।


पिता संघर्ष की आँधियों में हौसलों की दीवार है,

परेशानियों से लड़ने को दो धारी तलवार है,

बचपन में खुश करने वाला बिछौना है,

पिता जिम्मेदारियों से लदी गाड़ी का सारथी है,

सबको बराबर का हक़ दिलाता एक महारथी है।


सपनों को पूरा करने में लगने वाली जान है,

इसी में तो माँ और बच्चों की पहचान है।

पिता जमीर है, पिता जागीर है,

जिसके पास ये है वह सबसे अमीर है,

कहने को तो सब ऊपर वाला देता है

पर खुदा का ही एक रूप पिता का शरीर हैं।


Rate this content
Log in