Republic Day Sale: Grab up to 40% discount on all our books, use the code “REPUBLIC40” to avail of this limited-time offer!!
Republic Day Sale: Grab up to 40% discount on all our books, use the code “REPUBLIC40” to avail of this limited-time offer!!

Kawaljeet Gill

Abstract

5.0  

Kawaljeet Gill

Abstract

काश कोई

काश कोई

1 min
322


काश कोई मजनू की तरह

हमारा भी दीवाना होता,

तो हम भी लैला की तरह उस

पर अपनी जान निसार कर देता,


पर अफसोस असज कि दुनिया में

लैला तो कोई नजर आ जाए,

पर मजनू सा दीवाना कोई

हमको नजर नहीं आता,


आज के दीवाने तो प्यार

किसी से करते हैं,

वादे किसी और से करते हैं

और निभाते किसी और के संग है,


उस पर भी आलम ये है कि

बदनाम वो लैला को करते हैं,

कोई भी लैला की तरह आज के

मजनू पर आँख बंद करके विश्वास करे,

जाने कब कोई मजनू सा दीवानापन

दिखाकर धोखा दे जाए,


वो दौर औऱ था जब लोगों को

प्यार की कद्र हुआ करती थी,

आज के आशिक प्यार के कम

दौलत के ज्यादा दीवाने हैं,


प्यार की राहों पर चलना है तो

जरा सोच समझकर चलना,

आग का एक दरिया है इश्क़ ओ मोहब्बत

और पार इस को करना आसान नहीं।


Rate this content
Log in

More english poem from Kawaljeet Gill

Similar english poem from Abstract