Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कोई लौटा दे मुझे मेरा बीता बचपन
कोई लौटा दे मुझे मेरा बीता बचपन
★★★★★

© Ila Varma

Others

1 Minutes   1.2K    11


Content Ranking

 

जब हम बच्चे थे

अक्ल के कच्चे थे

हमारे मन सच्चे थे

ऊँच-नीच का ज्ञान नहीं

द्वेष और भेदभाव से परे।।

 

अपनी इक छोटी सी दुनिया

जो सजती गुड़िया-गुड्डों,

रंग-बिरंगे खिलौने से

जिनमें बसती थी जान हमारी।।

 

सज-संवर कर

रंग-बिरंगे कपड़ों में

माँ की ऊँगली पकड़ कर

जाते हम स्कूल

ज्यों ही माँ ऊँगली छुड़ाती

उमड़ पड़ते गंगा-जमुना की धार।।

 

सभी बच्चे प्यारे-न्यारे

हम सब इक बगिया के फूल

खेलते-कूदते, सुर-संगीत से

हम सब सीखे

गिनती,अक्षरमाला, वर्णमाला।।

 

घर पर हमारी

दादी दुलारी

करती मेरी बड़ी तरफदारी

"सुग्गा- मैना कौर बना कर"

मुझे फुसला कर

खिला देती पौष्टिक आहार।।

 

प्यार की थपकी लगाकर

लोरी गाकर

बिदा कर देती मुझे

नींद रानी के द्वार

आनंदित हो मैं

रम जाती

लुफ्त उठाती

खो जाती

सपनों के शहर।।

 

बचपन था हमारा अनमोल

इंद्रधनुष के रंगों का घोल

धरोहर थे

अमूल्य रिश्तों की सच्चाई

बिन मिलावट के

प्यार की गहराई।।

 

कोई लौटा दे मुझे

मेरा बीता बचपन

फिर से सीखा दे

सादगी और भोलापन।।

 

 

© इला वर्मा 24-01-2016

childhood dreams life passion जिंदगी ज्जबात हिन्दी

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..