Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

साथी

साथी

1 min 141 1 min 141

ढलता सूरज है हर शाम,

करके हवाले चाँद को उसके काम l


बिखरी चांदनी में शम्मे-मोहब्बत जलती हैं,

और धुआं जज़्बा-ए-इश्क़ की उठती है l


लाता सूरज नयी सुबह है हर रोज,

हर रात बना के चाँद को फ़िरोज़ l



Rate this content
Log in