Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Rajni Chhabra

Others

5.0  

Rajni Chhabra

Others

पथिक बादल

पथिक बादल

1 min
223


                    

               

एक पथिक बादल

जो ठहरा था पल भर को

मेरे आंगन पर

अपने स्नेह की शीतल छाया ले कर

समय की निष्ठुर हवाओं के साथ

न जाने ज़िंदगी के

किस मोड़ पर ठहर जाये


रह रह कर  मन में

इक कसक सी उभर आये

काश! इक मुट्ठी आसमान

मेरा भी होता


क़ैद कर लेती इसमे

उस पथिक बादल को

मेरे धूप  से सुलगते आंगन में 

संदली हवाओं का बसेरा होता



Rate this content
Log in