Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Chandan Mishra

Others

5.0  

Chandan Mishra

Others

बकरीद पर विशेष

बकरीद पर विशेष

1 min
372


या खुदा मुझे माटी से अच्छी तरह जोड़ दे 

हरा सावन, पतझड़, बहार, बसंत, होने दे।  


मुझे मिट्टी की सोंदी खुशबू में खोने दे,

उससे कुछ कहने दे, कुछ सुनने दे।


बाकी बातें बस रहने दे 

इस मिटटी में घुले आंसू हँसता बचपन       

जरा ढूंढने दे। 


मस्तक नीचा कर वीरों के ऊंचे कटे शीश 

जरा पकड़ने दे 

मिटटी का चंदन लगने दे 

भुजाओं में थोड़ा और रक्त चढ़ने दे।


मेरी माटी, मेरे देश की माटी से आज सब कहने दे 

कह दूँ उससे ईद मुबारक, हम फिर से जुड़ेंगे, मिलेंगे।

थोड़ा आस तो उसमे भरने दे।


Rate this content
Log in