Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Raghav Batra

Others


4.9  

Raghav Batra

Others


अंत की शुरुआत

अंत की शुरुआत

1 min 186 1 min 186

खुले आसमान की परछाईं में 

प्रदूषण की रजाई में 

मेरा शरीर जब शहर के लिए

पहला कदम उठाता है

तभी दिमाग में एक ख्याल

चमचमाता है 


की क्या है वो चीज़ जो इंसान

और इंसानियत दोनों को भाता है 

पैसे ने इंसानियत खरीदी

अभिपोषण ने इंसान 

संतुलन बनाते बनाते हुआ आम

आदमी परेशान 


कुछ ने भगवान को श्रेय दिया

अपने मान का 

अपनी आन बान और शान का 

और कुछ ने समाज को दोषी ठहराया

अपने पाप का 

अपनी जलन, ग्रहण और दुर्व्यवहार का 

इससे समय अंत की ओर आ रहा

इस संसार का



Rate this content
Log in