Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Abhipsa Pattanayak

Others


3  

Abhipsa Pattanayak

Others


अभी बाकी है

अभी बाकी है

1 min 343 1 min 343

कौन बता सकता है ये मुलाक़ात पहली या आखरी है,

ना जाने कितनी बार मिल चुकी हूं तुमसे और कितनी

बार मिलना अभी बाकी है।


हर दौर में कोई ना कोई किरदार होता है मेरे जैसा,

ना जाने कितने किस्सों में ज़िक्र है मेरा,

और कितनी कहानियों में लिखना अभी बाकी है।


सदियों से चली हूं एक काफ़िले के साथ साथ,

ना जाने किन मंजिलों की तलाश है और कहां

पहुंचना अभी बाकी है।


सुना है सौ रास्ते जाते हैं उसके दरवाज़े की तरफ,

मुझे एक भी नहीं मिल रहा,

लगता है बेसमझ क़दमों का भटकना अभी बाकी है।


ना थमा है, ना थमेगा ये रंजिशो का सिलसिला ।

ना जाने कितनी दफा टूटी हूं,

कितनी बार और बिखरना अभी बाकी है।


वजूद के दायरों से निकाल तो चुकी है जात मेरी,

बस सांसों का रुकना और रूह का बिखरना अभी बाकी है।


उस रौशनी की तलाश में जो फिर रहीं हूं मैं ,

समेट लो हौसला जितना अभी बाकी है।


कौन बता सकता है ये मुलाक़ात पहली या आखरी है,

ना जाने कितनी बार मिल चुकी हूं तुमसे और कितनी

बार मिलना अभी बाकी है।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Abhipsa Pattanayak