Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मेरे मन की बात
मेरे मन की बात
★★★★★

© Jai Kumar

Others

1 Minutes   13.3K    5


Content Ranking

कभी चाह ना की मैनें महलों की,
जो मिला उसे गले से लगाया है|

परवाह ना की कभी अपनी भूख की,
पर हर भूखे को मैनें भोजन कराया है|

आज थी मुझे ज़रूरत की तू मददगार होता,
पर आज फिर तूने मेरी गरीबी का एहसास कराया है|

 

मेरे मन की बात

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..