Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
राह में  फ़िर कहीं
राह में फ़िर कहीं
★★★★★

© Husen Gaha

Others

1 Minutes   7.1K    6


Content Ranking

राह में फ़िर कहीं मुलाकात हो,
और झोंकें हवा के सर्द साथ हो|
 
मांग लेंगे दुआ तू आ तो सही,
न थमे फ़िर वही बरसात हो|
 
चाहिए और क्या तुम्ही अब कहो!
फ़िर वही रात हो वही बात हो|
 
चल दिये दूर हम से किनारे कितने?
ग़म नही कोई गर तेरा साथ हो|
 
कोई देता नहीं हमे क्यों सदा?
साथ दे कौन जब घनी रात हो!
 
देख रुसवाईयां कितनी आ मिली!
यूँ लगे है "हुसैन" बारात हो|

कोई देता नही हमे क्यों सदा ? साथ दे कौन जब घनी रात हो !!

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..