Kishanlal Sharma

Others


1  

Kishanlal Sharma

Others


वितृष्णा

वितृष्णा

1 min 137 1 min 137

"सामान क्यों ले आये?" उसने आगुन्तक को देखते ही कहा था।

"आपने ही कहा था, दो तीन दिन में कमरा खाली हो  जायेगा।"

"कहा तो था लेकिन----

उसने खाट पर पड़े मरणासन्न पिता की तरफ हेय नज़रों से देखते हुए कहा था


Rate this content
Log in