Aarti Ayachit

Others


2.3  

Aarti Ayachit

Others


"मजाकवा लॉकडाउन"

"मजाकवा लॉकडाउन"

1 min 57 1 min 57

बचुआ के बापु ये तो बड़ों अच्छो हो गवो! पोहोच गंवा शहरमा ठीक-ठाक। ध्यान रखिवो अपनों, कछु आवाज़ नहीं आवत रहीन! फोनवा भी रंग दिखावत रहीन। अबहुं आवत रहीन! बचुआ को कॉलेज भी बंद हो गवो जब से लॉकडाउन भवो है न और बिटिया भी लैपटॉपवा पर घर से काम करत रहीन। 


बचुआ की अम्मा तुम का करत रहीन? कछु काम तुम भी कर लिवा करी। 

काहे ऐसे बोलत हो जी! घर की लुगाइयों को कित्तो काम करनो पड़त घर मा! अभी कछु तो पतो पड़ी गवो होगो! घर मा रहीके! 


मजाकवा कहत रहीन तोसे! तबहुं रोटीयां सेंक रहो हूं।


Rate this content
Log in