Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Aarti thakur Learning to share

Others


2  

Aarti thakur Learning to share

Others


सराय

सराय

1 min 229 1 min 229

कुछ नया नहीं 

वही पुरानी बात 

वही पुराना दर्द 


पर उभर आता है

जब जब मेरे अपने आते हैं 

घोंसले में ठहरने दो दिन


याद आ जाता है

अब उनकी और हमारी राह अलग है

सोच टकराती है

सुबह उठने उठाने पर से

नज़र कहीं बचतीं है

कहीं ख़ुद को बचाती है

तुम्हारी माँ अक्सर

बीच बचाव में ही थक जाती है


वो सारी ग़लतियाँ जो तुम्हारे हिसाब से

तुम्हारी परवरिश में हमसे रह गईं

तुम और तुम्हारे बच्चे मिलकर

उनका हिसाब लगाते हो

और मैं और वो यह सोचकर

हिसाब बराबर नहीं करते

कि अजी, अपने ही बच्चे हैं।


महिने भर पहले से तैयारियाँ शुरू होती हैं

पानी कहीं कम न पड़े इसका इंतज़ाम होता है

किसको क्या पसंद है,

किसको क्या ज़रूरी,

हर चीज़ का ख़ूब बखान होता है

पर जब तुम आते हो 

तुम्हें यह सब बोझ लगता है

मेरी पत्नी के पसीने में सना खाना

तुम्हें दकियानूस लगता है


तो जाओ अब इस सराय में न ही आना

तुम इसी लायक़ हो

किसी सराय में ही जाकर खाना


Rate this content
Log in