Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
दर्द मिल गया
दर्द मिल गया
★★★★★

© Raman Sharma

Others

1 Minutes   6.8K    0


Content Ranking

बहारें आने से पहले ही दर्द मिल गया ।
जो जख़्म भरा था फिर हरा हो गया ।।
कैसे गुज़रेगा ये लम्हा ज़िन्दगी का ।
तोहफा जो बडा ही ख़ूबसूरत मिल गया ।।
जो रंग रुप नहीं देखे थे जीने के कभी ।
इस बार कोई नया बहना मिल गया ।।
प्यार तो होना ही था तुमसे इसमें कोई खेद नहीं ।
पर जो नहीं चाहिये था वो मिल गया ।।
कैसे सुनाऊँ अपने दर्द की कहानी तुमसे ।
तुम्हारे दिल में जो कोई और बस गया ।।

------ रमन शर्मा हिमाचली ।

raman sharma

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..