Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
इंसानियत कहाँ रही
इंसानियत कहाँ रही
★★★★★

© Raman Sharma

Others

1 Minutes   1.2K    3


Content Ranking

अब इंसान में इंसानियत कहाँ रही ।
सत्य की जगह झूठ,बैर की राहें पकड़ ली ।।
ना जाने कैसा युग आ गया है ये ।
जो इंसानियत ही इंसानियत को डँसती रही ।।
पागल कर दिया है सबको पैसे के मोह ने ।
जब से रिश्वत लेने की कला जगत में आई ।।
कहाँ रहा धर्म का वज़ूद इंसान में ।
राजनेताओं ने दुनिया जब मुठ्ठी में की ।।
गीता,बाइबिल,पुराणों को रख दो संदूक में ।
क्या फ़ायदा जब इंसान की इनमें रुचि नहीं रही ।।
बदल रहे इंसान बक्त के साथ ज़माने में ।
ना जाने ये दुनिया कब एक सी होगी ।।

raman sharma himachli

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..