Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
शून्य
शून्य
★★★★★

© Anu Pande

Others

1 Minutes   13.6K    2


Content Ranking

शून्य  शून्यता की परिधि में,

निहित है समस्त संसार ।

शून्य से आकर,

शून्य में ही विलीन हो जाते हैं ।

संसार रचतें हैं हम, शून्य के मध्य,

संसार को ही सार समझते हैं ।

सम्पूर्ण जीवन सार को सारगर्भित समझते हैं,

 अंत में शून्य में ही विलीन हो जाते हैं ।

जीवन नश्वर है, जानते हैं सब,

 फिर भी, शून्य को नकारते हैं ।

अनंत है, अबोध है, अगाध है,

 कुछ नहीं पर शून्य जीवन का सम्राट है ।

जो जी गया सो तर गया परंतु,

जो विलीन हो गया सो अमर हो गया ।

शून्य से आकर,

शून्य में ही विलीन हो गया ।

शून्य ( Infinity )

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..