End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

Supragya Kaushik

Others


4.9  

Supragya Kaushik

Others


वक्त की सीख

वक्त की सीख

1 min 643 1 min 643

सब बदल जाते हैं समय के साथ हमने सुना था            

समय बदल देंगे उनके साथ हमने ये सोचा था                

ना जान सके हम कि हमारे पास तो समय ही नहीं थाI

ना कोई गिले शिकवे, ना ही कोई नाराज़गी ,             

भुला दी हमने हर आवाज़ उस समय के आगाज़ की I


दिन ढले, महीने बीते, बदलते गए साल            

हर आहट के साथ बदले रिश्तों में इंसान I

वो इंसान ही क्या जो समय के साथ बदल जाए         

कहते थे लोग, लेकिन आज की दुनिया का

तो है एक ही उसूल

जो बदल जाता है वही जीता है                   

जो ना बदल पाए वो हो गए विलुप्तI


अब तो हम भी समझदार हो गए                   

समय के साथ विकास में भागीदार हो गए 

डर तो अब भी लगता है रंग बदलते लोगों से              

पर उस डर पे काबू कर हम भी प्रगतिवान हो गएI        



Rate this content
Log in

More hindi poem from Supragya Kaushik