Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Megha Krakoti

Others

3.5  

Megha Krakoti

Others

खुद को मुजरिम न बनने दो

खुद को मुजरिम न बनने दो

1 min
188


खुद को मुजरिम सा न बनाओ 


यूं खुद को तन्हा मुजरिम न बनाओ 

की हर कोई आके तुम्हें दोषी बना जाए।।


यूं खुद को सबसे अलग न करो 

की हर कोई तुम्हें बेगाना बना जाए।।


यूं खुद को सज़ा न दो 

की हर कोई तुम्हें कुसूरवार बना जाए।।


यूं खुद को मुश्किलों में मजबूर न समझो

की हर कोई तुम्हारी मजबूरी का फायदा उठा जाए।।

 


Rate this content
Log in