Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

Manisha Kanthaliya

Others


2  

Manisha Kanthaliya

Others


इंसान सा बस रह गया है

इंसान सा बस रह गया है

1 min 23 1 min 23

चाहतों का चादर सिमट कर रूमाल सा बस रह गया है 

समझता था खुद को खुदा , इंसान सा बस रह गया है 

बीमारी का रूप धर आयी हाय विपदा कितनी बड़ी 

आसमां छूना था जिसको , पुआल सा बस रह गया है। 


भागती सड़कों पर हर पल दौड़ती थी ज़िन्दगी 

भूल बैठा था वो इंसा उस खुदा की बन्दगी 

और फिर उसने अपना जलवा कुछ यूँ दिखाया 

गलतियों का तेरी अहसास कुछ यूँ दिलाया।


पछतावे की आग में जल भस्म सा बस रह गया है 

चाहतों का ...।


अपने जो थे गले कभी उनको लगाता था नहीं 

लूटता था बस खजाना बाँटता तो था नहीं 

वो प्यार और वो खजाना आज सब को दे रहा है 

पिंजरबद्ध होकर ही आखिर स्वच्छ सांसे ले रहा है 


और इस कुदरत का आखिर गुलाम सा बस रह गया है 

चाहतों का .....।



Rate this content
Log in