Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

kavi manoj kumar yadav

Others


5.0  

kavi manoj kumar yadav

Others


बारिश

बारिश

1 min 306 1 min 306

मेघ से जब नीर बरसे।

तब मधुप कुंतल को तरसे।


ढूंढता किसलय कोई तब।

चूस कर जिसको वो हर्षे।


पा गया गर गात कंचन।

तब मधुप निकले न घर से।


मिल गयी काया जो शोभित।

तब बिता देता है अरसे।


अब लगे ज्यों सीखता है।

वो मिलन के गीत नर से।



Rate this content
Log in