Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Ajay Amitabh Suman

अजय अमिताभ सुमन: Advocate, High Court of Delhi Mob: 9990389539 E-Mail: ajayamitabh7@gmail.com Listen My Poem at https://www.youtube.com/channel/UCCXmBOy1CTtufEuEMMm6ogQ?view_as=subscriber दिल्ली हाई कोर्ट में पिछले एक दशक से ज्यादा समय से बौद्धिक संपदा विषयक क्षेत्र में वकालत जारी। अनगिनत कानूनी संबंधी लेख कानूनी पत्रिकाओं , जैसे कि पेटेंट एंड ट्रेड मार्क्स केसेस , लाव्येर्सक्लब इंडिया , लीगलसर्विसेज इंडिया , पाथ लीगल , लाइव लॉ , बार एंड बेंच , लीगल डिजायर , स्पाइसी आई पी , लेक्स एस्पायर जर्नल इत्यादि में प्रकाशित। वकालत करने के अलावा साहित्य में रूचि रही है। अनगिनत पत्र , पत्रिकाओं में प्रकाशन।हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओँ में समान अधिकार। प्रकाशन: रचनाकार , साहित्य कुंज , स्टोरी मिरर , हिंदी लेखक , साहित्य सुधा , मातृ भारती , साहित्य , नव भारत टाइम्स, दैनिक जागरण , अमर उजाला, आज, हिंदुस्तान, आर्यावर्त , प्रतिलिपि , यूथ की आवाज , साहित्य पीडिया , स्पीकिंग ट्री ,शब्द, समजोद्धार, नूतन पथ, वाटपैड , स्वीक, मीडियम, हिंदी पत्रिका, कविशाला , सावन , स्टोरी वीवर , कहानियाँ, प्रोज , आल पोएट्री , हेल्लो पोएट्री, पोएट्री हंटर , पोएट्री नेशन, मोवेल्लास , योर कोट , नोजोटो , मीराकी , बुकसे , द राइटर इत्यादि अख़बारों और वेब पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन।जीवन में बहुत सारी घटनाएँ ऐसी घटती है जो मेरे ह्रदय के आंदोलित करती है. फिर चाहे ये प्रेम हो , क्रोध हो , क्लेश हो , ईर्ष्या हो, आनन्द हो , दुःख हो . सुख हो, विश्वास हो , भय हो, शंका हो , प्रसंशा हो इत्यादि, ये सारी घटनाएं यदा कदा मुझे आंतरिक रूप से उद्वेलित करती है. मै बहिर्मुखी स्वाभाव का हूँ और ज्यादातर मौकों पर अपने भावों का संप्रेषण कर हीं देता हूँ. फिर भी बहुत सारे मुद्दे या मौके ऐसे होते है जहाँ का भावो का संप्रेषण नहीं होता या यूँ कहें कि हो नहीं पाता। यहाँ पे मेरी लेखनी मेरा साथ निभाती है और मेरे ह्रदय ही बेचैनी को जमाने तक लाने में सेतु का कार्य करती है. Myself AJAY AMITABH SUMAN, a Lawyer by profession and poet by passion. I have been practicing in Hon'ble High Court of Delhi (India), having specialization in matters pertaining to Intellectual Property Rights. Being the Lawyer, I am in the habit of reading books and writing legal articles, blogs etc. Besides writing Legal Articles, I love writing poems, especially which address the issue of human understanding, god, religion, philosophy etc. I have been in the habit of writing poems since long. I have written lots of Poem in Hindi Language. Now I have started to write in English Language also. The Skill of Writing Poems and stories always instill the sense of Satisfaction in me. There are many things in life, which happens. Because of many reasons, I am unable to confront the situation. Then these are the Poems, Stories, which provide me platform to express my the unspoken words. Many of Poems, stories, essays have been published on Watt pad, Speaking Tree,Medium, All Poetry, Hello Poetry, Poem Hunter, Poetry Nation, Booksie, Movellas,Story Weaver, Pratilipi, Story Mirror, Matru Bharti, Prose, Your Quote, Meera ki, Digest Stories etc. read more

  Literary Brigadier

Virtue

Abstract Others

Such is his life, such is his way, He Runs after life, pounce upon prey,

1    46 2

I Am, I Am Not

Others

While living in Berlin, I dream for Sanghai, When crossing the river, Never sail, tempted to fly.

1    49 2

Why Should I Trust My Fate?

Abstract

Lord Rama killed Bali, Behind his Back

1    67 3

Only This Man

Others

Enough have shelter & enough have wool, But man never die with his stomach full.

1    45 2

The Isness

Abstract Children

But when in net, Lion was trapped, One who freed lion, was that puny rat.

2    114 4

Saved My Lamp

Drama

An authentic man can surely lead you to joy

1    25 1

Reward Of God

Inspirational

Tears flew through eyes With gratitude and Joy, Bow down to Gardener, Father said to the Boy.

1    44 2

Me And Gandhi

Children Drama

He passed the virtue while blessing with hand, But I picked a fight, while raising my hand.

1    89 4

Idea Of Rich

Abstract

That trader crossed desert crossed river and Land

1    46 2

Schnooks

Others

Never in morning, he preferred a Walk, Reading his Message, on WhatsApp and chat.

1    164 7

Alter Ego

Abstract Children Others

When they asserted Themselves so high, You looked at them With doubting eye.

1    89 3

Alpha Is Alpha So Pie Is Pie

Abstract

Why does come Monday first always in Week?

1    89 3

The Heart Of A Women

Fantasy

You may know her ear, Eyes, navel the Everything, But until you know her heart, You know nothing.

1    87 4

Whatever You Say

Drama Others

Fancied the river, without any swim. And thought of Life, as per my whim.

1    85 3

My Game, My Name

Abstract

Not looking for favor, O learned man wise.

1    105 5

THE BUDDHA IN YOU

Drama

God always is there...

1    42 2

Temptation

Drama

Surprisingly I found my astrologer friend

1    24 1

Non Violence

Inspirational

The rice, the wheat, the pulses all seed, All are designed for new plants to feed.

1    82 4

Truth

Abstract

All of a Sudden Sounds turning in Noise

2    25 1

When Silence Speaks

Others

Lord Buddha revealed the ultimate wisdom to his disciple Mahakashyap in complete silence.

1    2.1K 2

WHEN SILENCE SPEAKS

Inspirational

Destroyed illusion you, cleared my haze, Disciple was singing, aloud in his praise.

1    2.0K 1

Peak Of Virtue

Others

Diving I am deep into, ocean of bliss O' thy, Now no conflict here and nothing is hue & cry.

2    5.5K 3

Peak Of Virtue

Abstract Others

This is a Poem where the Poet is describing his blissful state of mind.

2    10.9K 4

HEAVEN AND HELL

Inspirational

Being humiliated And filled with Anger, King raised his sword And man was in Danger.

1    13.6K 6

THE RACE

Others

He likes the music, And likes the dance. He also rejoices, The singing by chance.

1    6.9K 3

Prayer To Death

Inspirational

My friends are few, More have to be made, Books are left unread, Games are to be played.

1    7.2K 5

माँ :एक गाथा

Abstract

ममता की प्रतिमूर्ति ऐसी, देवी छोटी पड़ जाती है, धरती पे माँ कहलाती है।

9    269 16

पुत्र:माँ:भाग:5

Inspirational

रात रात भर थपकी देती, बेटा सोता पर वो जगती

1    6 0

नव विवाहित: माँ: भाग:4

Others

माँ की ममता अतुलित ऐसी, मरु भूमि में सागर जैसी,

1    2 0

दुल्हन: माँ: एक गाथा:भाग:3

Others

किलकारी घर में होती फिर, ख़ुशियाँ छाती हैं घर में फिर,

1    22 1

तरुणी माँ-पार्ट 2

Classics

एक संसार रचाती है, धरती पे माँ कहलाती है।

1    4 0

करुणा माँ: एक गाथा:पार्ट 1

Inspirational

स्वर्ग लोक में प्रेम की काया, ममता, करुणा की वो छाया,

1    189 47

खा जाओ इसको तल के

Classics

जो भी रहा है सीधा जीता है गल ही गल के, चापलूस ही चले हैं फैशन हैं आजकल के।

1    234 14

आदतें

Others

मेरी इस कोशिश में कोई, कसर नहीं बाकी होगा, फ़िक्र नहीं कि तुझ पे कोई, असर नहीं बाकी होगा।

1    230 9

सागर के दर्शन जैसा

Abstract

तुम खोते खुद को पा लेता, कि तेरे कंठ वो गा लेता। तुम गर बन जाते मोर-पंख, वो बदली जैसे छा लेता। ...

1    25 1

जनतंत्र

Tragedy

सूखा, मलेरिया और बाढ़ की तबाही, कैसी कैसी हैं आफ़तें इंसान के साथ।

1    157 15

एक से पचास

Others

एक दो तीन चार पाँच छः सात, गिनती ये मेरी प्रभु सुनो जगन्नाथ। आठ नौ दस ग्यारह बारह तेरह, तेर...

1    142 1

गप्पू

Others

विज़डम से पैदल है वाणी पे ब्रेक। कुछ कहने को हकलू लगता जब ज़ोर। कहते हैं सारे वन्स मोर वन्स मो...

1    186 2

नियंता

Others

बादल तो पानी बरसाए,एक बराबर हीं जग पर, तुम सारे निज पात्र लिए हीं, अड़े रहे निज धरती पर।

1    322 1

व्यवधान

Inspirational

शिशु का चलना गिरना पड़ना है सृष्टि के नियमानुसार, बिना गिरे धावक बन जाये बात न कोई करे स्वीकार। ...

3    147 0

राजा और भिखारी

Abstract Children Stories

कर सकता था वो क्या क्या था उसके हाथ में, ज्यों भिखारी चल रहा था पोटली ले साथ में।

1    343 0

गधा तंत्र

Tragedy Others

कहते जन का तंत्र यहीं है, सब गधों का मंत्र यहीं है। जोर न इसपे अब चलता है, जो चाहें ये ...

1    184 0

हाँ मैं बस मिटना चाहूँ

Abstract

जो सुख दुख के भी बसे पार , जिसकी रचना पूरा संसार , उसी ईश्वर की मैं लिखता हूँ, उसी ईश्वर की...

1    123 0

छोटा है तो क्या ?

Inspirational

छोटा तन पर ना रोना, मन को पर तू ना खोना, मन के जो खोटे होते, सच में वो छोटे होते वो ही...

2    41 1

राख़

Tragedy

ज़ोर नहीं चल रहा है, आदतों पे आदमी का। बाँधने की घोर कोशिश और उलझता आदमी।

1    286 1

संबोधि के क्षण

Inspirational

अक्सर मैं अपनों में सपनों खोया रहता, जानता नहीं था की स्वप्न में भी कभी सत्य नहीं मिलता,ये सिर्फ अज्...

1    43 0

पत्नी महिमा

Comedy

साले साली की महिमा ऐसी, मरू में हरे सरोवर जैसी । घर पे होते जो मेहमान , नित मिलते मेवा प...

1    350 2

कैसे कहूँ है बेहतर, हिन्दुस्तां

Tragedy

सरकारी हॉस्पिटलों में, दौड़ के ही ऐसे, आधे तो मर रहें हैं, इनको बचाए कैसे? बढ़ रही है कीमत और बढ़...

1    23 1

संबुद्ध

Abstract

जब तक नर मौन न साधेगा, पंच दरवाजे होंगे अवरुद्ध, कैसे निज अभिधार्थ फलेगा, और होंगे मानव संब...

1    29 1

निर्धारण

Abstract

क्या पता मालिक की कोई दुआ है, तू नाहक समझता गलत सा हुआ है।

1    55 1

क्यों नर ऐसे होते हैं?

Others

प्रभु कहने से ये डरता हूँ, तुझको अपमानित करता हूँ , इनके भीतर तू हीं रहता, फिर जोर तेरा क्य...

1    65 2

नर है या कि मादा

Others

लड़कों के ना हाव भाव , औ इनका साथ न भाय, कोई तो हल कर दे गुत्थी, कर दे नए उपाय, क्या चाह...

1    64 0

हेतु

Comedy

और मित्र न लूंगा मदिरा, हेतु तुझे बताता हूँ, अभी अभी तो पांच पैग ले, मदिरालय से आता हूँ।

1    293 1

चलोगे क्या फरीदाबाद?

Comedy

कटहल मुर्गे खाकर कि, लोगों का अजब किराया । शेखचिल्ली के रूपये दस, और हाथी का भी दस भाड़ा? ...

3    194 1

राज क्या है?

Others

इस शहर को शायद अब, जान मैं गया हूँ, जागीर न किसी की , पहचान मैं गया हूँ, नई बज रही है ...

1    180 1

पतवारें बनो तुम

Inspirational Others

खुद हीं अब खुद के सहारे बनो तुम, मौजों से भिड़े हो पतवारें बनो तुम।

1    243 0

ज्ञान और मोह

Others

पूज्य हुआ जो पतित था, स्वयं का अभिमान खोकर, और इसको ज्ञात था क्या, ज्ञान का अभिमान लेकर?

1    162 0

हौले कविता मैं गढ़ता हूँ

Drama

योग कठिन अति भोग भ्रमित मैं, अक्सर विस्मय में रहता हूँ।

1    208 0

चांडाल

Drama

आते हीं आलाप करेगा, अनर्गल प्रलाप करेगा, हृदय रुग्ण विलाप करेगा, शांति पड़ी है भ्रांति सन्मु...

1    45 1

ईश्वर की राह

Abstract

कितना कठिन है, प्रभु डगर पे चलना।

1    45 1

राष्ट्र का नेता कैसा हो

Classics

जो रहें लिप्त घोटालों में, जिनके चित बसे सवालों में...

1    75 1

जहर प्रभु है

Abstract

प्रेम सुधा की बातें करते , पर सबसे तुम जलते रहते, घृणा सत्य है तुमको बंधू , निंदा पर हीं तुम तो फ...

1    72 0

ना धर्म पर, ना जात पर,

Drama

जाति धर्म से कभी भूख नहीं मिटती, उदर डोलता है मेरा सब्जी पर भात पर।

1    483 49

स्कूल की नसीहत

Inspirational

किताबों की बातें अच्छी तो थी बहुत मगर, दुनिया वालों का कुछ और ही इरादा था।

1    317 18

रूह की कीमत

Drama

अक्सर वो जब भी जोर से कहता है, ये तो तय है कि वो झूठ कहता है।

1    177 28

जीवन ऊर्जा तो एक ही है

Drama Inspirational

जीवन ऊर्जा तो एक हीं है, ये तुमपे कैसे खर्च करो। या जीवन में अर्थ भरो या यूँ हीं इसको व्यर्थ करो...

1    99 4

गधे आदमी नहीं होते

Others

अगर दूसरे गधे आराम फरमाते है तो इसे कुढन नहीं होती। गधों को आदमी की तरह पेट के दांत नहीं होते, गध...

1    49 2

कवि की अभिलाषा

Action Drama Inspirational

बातों से कभी भी पेट, देश का भरा नहीं, वादों और वादों से सिर्फ, हुआ है भला कभी ?

2    78 3

बस खटमल संभल गए

Comedy Drama

पैसे लेके भागे माल्या, और मोदी निज धाम, नहीं दोष शासक का इसमें, जनता का ही काम...

1    121 4

मानव स्वभाव

Children Drama

ये कविता मानव स्वभाव की जटिलता के सामने विज्ञान के बौनेपन को दर्शाते हुए लिखी गई है.

1    80 2

अपनी नयनों के पट खोल

Drama Inspirational

आजकल के परिदृश्य में भारत वर्ष में सारी राजनैतिक पार्टियाँ जाति और धर्म की राजनीति कर रहीं हैं...

2    107 5

पत्नी प्रेम

Others

किस बात से रोते हो, किस बात का ग़म है? शर्माजी खिसियाते बोले, ग़म मेरी बेगम है.

2    204 9

मै और ब्रह्मांड

Drama

मैं, मेरा घर, मेरा छोटा सा घर, इस अनंत ब्रह्मांड में।

2    162 7

व्यापार

Inspirational

पैसे की चिंता ही उसको भगाती दिन में बेचैनी, रातों को जगाती कि रिश्तों में उसके दरार आ गया लगता है...

1    96 2

कविता बहती है

Inspirational Others

कविता कवि की ही ना होती,कवि की भावों पे ना चलती, थोड़ा समाज भी चलता है, दुख दीनो का भी फलता है।

1    71 3

मिथ्या

Others

बातें ख़ुदा की यूँ करने से क्या, लड़ने से क्या , झगड़ने से क्या? जो चलते नही तू ख़ुदा की डगर, यूँ...

3    90 4

अरमान

Inspirational

चलते है वो अक्सर बहारों में ऐसे, पढ़ते हैं खबर कोई अखबारों में जैसे। मुश्किल से उसको पगार मिला आज...

3    132 6

संस्कार

Others

अरमान पड़ोसियों की, मुद्दत से पड़ी थी सूनी बारिश अब हो रही थी , वो भींग सब रहे थे

1    88 4

हौले कविता मैं गढ़ता हूँ

Inspirational Others

जिस पथ का राही था मैं तो, प्यास रही थी जिसकी मूझको, निज सत्य का उदघाटन करना,

1    55 2

न्यायधीश जब न्याय माँगने

Tragedy

न्यायधीश जब न्याय माँगने, निकले जोड़े हाथ, तुम बोलो हे जन तंत्र अब, किसका दोगे साथ ?

1    148 4

मेरा पराया गाँव

Others

स्कूल जाना जरुरी है. अब यात्रा में खाने के लिए कोई चना भुनवाता नहीं और बस के आँखों से ओझल हो जा...

1    97 4

प्रभु दर्शन

Inspirational

तेरे वास को पहचानूं मैं , नहीं घ्राण शक्ति अभी विकसित। चाह अनंत मन भागे पीछे , बोध दोष व्यसनों से...

1    28 1

दहेज के दानव

Drama Tragedy

देख के मेरा यूँ झुकना औरों के सामने, पूछती बेटी मेरी क्या जुर्म की थी बाप ने ?

2    91 3

ख़ुदा

Inspirational

जलाया है कितनों को, पहचान बनाने के लिए फर्क इससे नहीं पड़ता, कि दूसरों को रुलाया है

1    90 4

दिल का पथिक

Inspirational

अपनों के वास्ते कभी सपनों के वास्ते, बदलते रहे अपने उसूलों के रास्ते।

1    61 1

तकरार

Drama Tragedy

इधर से दनादन थप्पड़, टूटी थी चारपाई, उधर से भी तो चौकी, बेलन बरस रहे थे।

1    72 3

जलन

Others

प्रॉब्लम इस बात में नहीं है कि वो अपने आप को बड़ा आदमी समझता है प्रॉब्लम इस बात में है कि वो ज...

1    131 4

कुत्ते

Inspirational Others

तीजे जो काटते है, आदतन। कुत्ते जो काटते है, वो तलवे चाटते नहीं, दुम हिलाते नहीं।

1    111 5

शौक

Drama

अब चलो चलें पूरा करने, अपने अपने शौक, तू पैदा कर नस्लें आदम मैं मुकर्रर अपनी मौत।

1    49 2

एक भैंस

Others

चढ़ जाती है किसी कसाई के हाथ, क्योंकि, भैंस कपटी नहीं होती, आदमी की तरह, निज स्वार्थ साध नहीं स...

1    51 2

मेरी परिभाषा

Inspirational Others

हार का, संताप हूँ , जीत का, उल्लास हूँ । सम्मान हूँ, जहाँ आदर है , अभिमान हूँ, जहाँ सादर है ।

1    77 3

अपंग पिता के लिए

Drama Inspirational Tragedy

एक बक्शे में भरकर ले जा पाता, ये थोड़ा सा पूरा आकाश, अपने अपंग पिता के पास।

1    90 3

धर्म निरपेक्ष

Others

क्योकि कौए और गधे किसी धर्म के नहीं, ये हर धर्म में पाए जाते है।

1    159 7

जानवर जानवर होता है

Inspirational Others

मालिक के ख़ातिर जान को देता है, मालिक के जान को भगवान सा समझता है, चुकी जरूरत पड़ने पे जान को देत...

1    92 3

भगवन तेरी एक लीला

Tragedy

इसमें तेरी गरिमा क्या है ? भैंस के इस तरह मरने में तेरी महिमा क्या है ?

1    149 7

हद

Others

छत की जद्दोजहद में कब्र तो नसीब की, खुदा का यूँ रहमत बरपाने की भी हद है।

1    88 3

शहर और देहात

Inspirational

हमारे तन पे कपड़े नहीं कि पैसे कम हैं, और तुम्हारे कपड़ों से तो दिखे बदन है।

1    52 2

शहर का आदमी

Drama Tragedy

मैं दूर रहता हूँ आपनों से, अपनों के वास्ते।

1    92 4

नए धर्म की की खोज

Others

सुन के संत की अमृत वाणी , मंद बुद्धि व ज्ञानी मानी, कटा लिए फिर सबने कान ,क्या भोले और क्या अभिमानी...

1    67 3

बेनाम

Inspirational Others

कपड़ा वाला कहता मैडम कपड़े धुले ये क्लीन। और पड़ोसी जलते कहते, बहु बड़ी शौकीन।

1    113 4

मैं हूँ बालक एक नादान

Children Drama Fantasy

नित परियों की नई कहानी, मुझे सुनाए मेरी नानी, ओ भोले बस यही चाह है, चलती रहे मेरी मनमानी।

1    115 4

ईश्वर से साक्षात्कार

Inspirational

कभी मंदिर में चले गए पूजा वन्दन और नृत्य किए। शिव पे थोड़ी चर्चा सी कुछ वाद किए घर चले गए।

1    66 3

यारी के वास्ते

Others

गर निभानी पड़ जाये वो दोस्ती नहीं तकरार से टूट जाये नहीं दोस्ती कोई

1    88 4

अन्ना जी का गन्ना

Drama Tragedy

देख बुरा है हाल फटा है लोकपाल का पन्ना. हो गई बेजार क्रांति चूस अन्ना जी का गन्ना।

1    46 1

याचक

Inspirational

कभी मीत बन जाता दुश्मन कभी दुश्मन को प्रीत सिखाते। प्रभु भावों के रूप अनगिनत भावों के अनगिनत बादल।

1    128 5

हकीक़त

Inspirational

बन गयी बाज़ार दुनिया, बिक रहा सामान है, दिख रहा जो जितना ऊँचा उतना बेईमान है

1    159 7

दुनिया में नाम कर जाएगा

Drama Tragedy

ऐसे भी बची कहाँ है, इज्जत अब कोर्ट की, बची खुची है जो भी, नीलाम कर जाएगा, ये वकील दुनिया में नाम क...

2    70 3

समाधि

Drama Inspirational

ये कविता गुरु द्वारा शिष्य को प्रदान की गयी शिक्षा पर आधारित है...

2    15 0

तुमको कैसे भगवान दूँ

Children Others

जिस तरह से एक आदमी प्रेम का प्रमाण नहीं दे सकता अपितु प्रेम में पड़ सकता है , प्रेम को महसूस को महसूस...

2    107 5

अजीब सी तबियत है

Drama

सीने में दफन है जाने कितने अँगारे ? सुलगे हुए से होते जज्बात आदमी के।

1    114 3

उड़ान

Drama Inspirational

खुदा नहीं करता कोई अंतर, भेद भाव मत होने दो, बेटा बेटी हैं एक बराबर, उड़ान इन्हें भी भरने दो...

1    116 4

धन की सोच

Inspirational

और ज्योतिष के कहे व्यापारी, सात समंदर पार , पहुँचा वन में जहाँ पड़े थे कंकड़ पत्थर हजार। चमक रहे थे ...

1    44 2

शिशुपाल का वध

Drama Tragedy

लाल मिर्च खाये तोता फिर भी जपता हरिनाम, काँव-काँव ही बोले कौआ कितना खाले आम।

1    145 3

ईश्वर

Drama Inspirational

ईश्वर क्या है एक संयोग...

1    71 2

यदि शेर के अंतर्मन में उठे

Inspirational

अगर शेर की जीव हिंसा है,तेरी नजर में पाप? क्या दोष है सिंह का इसमें,फिर क्यों ये अभिशाप?

1    78 3

ये कैसा विधान विधाता का

Drama Tragedy

कैसा ये विधान विधि का कैसा ये संयोग ? कोमल कलियों में छिपे हुए होते काँटों के योग।

1    119 4

योगी और आकाश

Drama Inspirational

आकाश की भांति, होता है योगी, एकदम अछूता, एक द्रष्टा...

1    47 2

भाग्य के कर्म

Inspirational

भाग्य भरोसे हम हों आश्रित नहीं चाहिए राय। नीयति से उम्मीद कुछ नहीं हमें चाहिए न्याय।

1    169 7

पुकार

Drama

तब हृदय प्रेम से हिला नहीं, कोयल की कूक सुना नहीं, जो चाह नहीं थी ढूंढा नहीं, कहते क्यों ईश्वर मि...

1    115 4

विश्वास

Drama Inspirational

निज बुद्धि में प्रकाश भरो। कोरी कल्पित एहसास करो। यूँ हीं उम्मीद ना आस धरो, उपजे संदेह विश्वास कर...

1    130 6

तेरा ईश्वर

Inspirational

कुछ कुत्तों को बिस्कुट खिलाते दुलार से भूखों से घृणा दुत्कारते फटकार से

1    90 4

जीवन ऊर्जा तो एक ही है

Inspirational

कभी ईश्वर यहाँ न आते हैं, कोई मार्ग बता न जाते हैं, तुमको ही करने है उपाय, इस जीवन का क्या है प...

1    111 5

चिर कल्पों तक गुणगान रहे

Drama Inspirational

राष्ट्र महान ये कल्पों से, चिर कल्पों तक गुणगान रहे...

1    77 2

मानवता

Inspirational

जिस राष्ट्र में मानव भूले मानव की परिभाषा, उस राष्ट्र में मानव से नहीं मानवता की आशा।

1    87 3

प्रार्थना

Drama

अनगिनत जो जी रहे हैं, अपने कब्रिस्तान में। स्वयं निर्मित जाल में, स्वयं के अज्ञान में।

1    131 5

नहीं अपेक्षित मुझको किंचित

Drama Inspirational

हे ईश्वर यदि तुष्ट है मुझसे विनती हो ये स्वीकार, नहीं अपेक्षित मुझको किंचित मानवोचित उपहार...

1    66 1

मेरी चाहत प्रभु तुझे पाने की

Inspirational

रास्ते हैं अनगिनत,अनगिनत हैं ठौर, मुश्किल हैं ठोकरें मुश्किल है दौड़।

1    87 3

प्रार्थना

Drama

लोभ तिरोहित हो अभिज्ञान, प्रभु मुझको दो वरदान।

1    163 8

उम्मीद

Drama Inspirational

मरा हुआ समझ नहीं हारा हुआ हूँ बेशक, टूटे हुए इस दिल में आवाज अभी बाकी है...

1    191 9

मस्ज़िद की नमाज़

Inspirational

माना सोमनाथ मंदिर को कभी गजनी नेे फोड़ा था, पर तुमको भी याद रहे मस्जिद तुमने भी फोड़ा था।

1    97 4

मेरी जिंदगी

Drama

मेरी जिंदगी का मुझको कोई नहीं भरोसा, मेरी मौत पे हुकूमत दे दूँ तुझे मैं कैसे ?

1    148 6

गधे आदमी नहीं होते

Children Comedy Drama

गधों को आदमी की तरह, पेट के दांत नहीं होते, गधे-गधे होते हैं, आदमी की तरह बंद किताब नहीं होते...

1    107 4

द्वंद्व

Inspirational Others

चुप रहने का ना कोई दावा, और नहीं कुछ कह पाता हूँ। अन्तर्मन को ज्ञात गलत पर, प्रतिरोध ना कर पाता ह...

1    108 4

बचपन

Children Drama

जामुन के पेड़ बैठ फिर मन भर जामुन लाता, माता के हाथों से चावल भाग-भाग फिर खाता।

1    158 6

अचरज

Children Comedy Drama

भरके अचरज गधे स्वामी, पहुँचे अपने घर के नानी। ईश्वर की कैसी नादानी, मुझको होती है हैरानी...

1    95 4

सरकारी पालिसी

Children Inspirational Others

चल पाता है रिक्शा घर कि जब उसने जोर लगाया टूनटूनी कमर वजनी रिक्शा चर चर चर चर चर्राया

2    117 5

अनजान दिखता है

Inspirational

इस नफरतों की दौड़ ने काफिर बना दिया, वगरना तो पत्थरों में भगवान दिखता है।

1    144 7

सवालात

Drama

फरियाद अपनी लेके, जाएँ तो जाएँ किधर। अल्लाह भी बेजुबां है, सवालात ही कुछ ऐसे हैं...

1    90 3

इंतजार

Others

ना जात पता था नन्हे को, ना जात पता था नन्ही को जब मिलते भर मन मिलते, की जग सारा हँस पड़ता था

1    151 6

इच्छित तुझसे ये वरदान

Inspirational

चिर मान रहे, चिर आन रहे, ईश्वर तेरा वरदान रहे, राष्ट्र महान ये कल्पों से, चिर कल्पों तक गुणगान रहे।

1    134 5

मैं अनेक हूँ

Others

और रोड पे एक का सिक्का मिलने पे, चुपचाप जेब में रखने वाला आदमी। सुबह जल्दी उठने का निश्चय कर, रा...

1    48 2

तब्दीली

Others

हसरतों के जाल में रोता था उम्र भर, दिल ही था उसका चाँद पे मचल गया।

1    70 3

गुमशुदा

Drama

अपनों के हाथों ही खाए थे खंजर, जख्म तो हुआ गुदगुदा हो गया। ऐसा नहीं सच ना संभला था हमसे, कीमत बहु...

1    92 4

अंदाज

Drama Inspirational

जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रखो, जो तुम्हें ना समझे उसे नजरअंदाज रखो...

1    44 2

शराबी

Others

होश में भी होकर क्या कर लेती दुनिया , कहती क्या दुनिया क्या सुन लेती दुनिया।

1    157 4

गुनाह

Drama Tragedy

मेरे टोकने का असर होता या ना होता, गुनाह मेरा ये कि उनको रोका नहीं।

1    130 6

कब आओगे

Drama Romance Tragedy

नन्हे को याद रहा कि लौट के कब तुम आओगे। लौट के कब तुम आओगे...

1    155 4

हाय रे! दुनिया

Inspirational Others

कागज़ के नोटों आदि से कहाँ किसी का मन भरता है ईख पेर कर रस चुसता जो, जैसे ही वो करता है

2    84 3

इल्जाम

Tragedy

निकलता मुख से था धुआँ व सिमटे हुए थे लोग, मेरे भी माथे पे थी टोपी और सीने पे ओवरकोट।

1    54 2

काने को काना कहना

Drama

नगीना सिंह सच में बड़ा वीर मर्दाना है...

1    24 1

गुनाह

Inspirational

नक़ाब बदलता रहा करके गुनाह मैं, आदत अपनी रही थी औरो पे कसने की।

1    86 4

आदमियत के रास्ते

Drama

आग में जल खाक बनकर राख रखता आदमी।

1    87 4

प्रभु डगर

Drama Inspirational

कितना सरल है राह प्रभु की ? कितना कठिन है प्रभु डगर पे चलना...

1    163 8

और ये दुनिया क्या

Others

छोटे इगो का बड़े इगो से बड़े इगो का छोटे इगो से तकरार बार बार

1    72 2

आम आदमी पार्टी

Drama

अब जाति धर्म के नाम में नहीं बिकेगी जनता, नेताओं के मकड़ जाल में नहीं फँसेगी जनता।

1    65 3

बड़की माई

Others

कैसे जिन्दा हैं आप बिना पड़े एक भी किताब

1    66 3

हाय रे टेलीफोन

Comedy Drama

होती इतनी भीड़ है बेशक पर मेरे मेहमान। आ जाएँ मैं प्रेत अकेला घर मेरा शमशान...

1    148 6

मैंने भी देखा एक सपना

Others

तब कहूँ क्या हुआ जनाब, खुल गयी वो बन्द किताब। आया फिर एक बड़ा भूचाल ,दादी का मुंह हुआ विशाल।

1    130 5

प्रधानमंत्री के नाम

Drama Inspirational

मैं हूँ सुखी स्वाधीन जगत में अब तो हूँ उन्मुक्त यहाँ। यही सोच ना तनिक फिक्र है मुझको अब निश्...

2    107 5

व्यापार

Drama

नहीं कोई ऐसा जिसे छला न जग में, शामिल दिखावा हर डग, पग, हर रग में। कि करने अपनों पे प्रहार आ गया, ...

1    192 7

अभिलाषा तुम बहुत खूबसूरत हो

Romance

तेरा रूप अनुपम ऐसा कि, शब्द छोटे पड़ जाते हैं, ऐसी देहयष्टि तेरी कि, अलंकार विवश हो जाते हैं।

1    651 6

मानव स्वभाव

Drama

मानव के अकड़ की जो करनी हो पहचान, कर दो स्थापित उसके कर में कोई शक्ति महान।

1    1.9K 3

कुकडु कु

Drama

मुर्गा पर ये सोच न सका, सपने सच होते कहाँ भला, बिन बोले ही हुआ बिहान, मुर्गा ना बोला कुकडु कु, ह...

1    452 3

शह और मात

Inspirational

मेरा घोड़ा मरा यहाँ पे ,हो तुम क्यों परेशान? मेरा खेल है, मेरी चाल है, घोड़े का बलिदान।

1    2.4K 6

नीतीश तुम्हारी जय हो

Inspirational Others

विश्वास मुझे है ए नीतिश भारत को सबक सिखाओगे, विकास मंत्र है जनतंत्र की तुम ये पाठ पढ़ाओगे।

2    427 2

प्रधानमंत्री के नाम

Others

प्रति दिन आयु बढ़ती जाये ध्यान मगन प्राणायाम करो . कलुष भाव को सदा मिटाकर दिल से भय का नाश करो...

2    376 4

जौहर

Others

फिर राम उन्हें मिल जाते हैं, वो सीता राम कहलाते हैं, जब नर नारी का भान कहाँ, ये सीता ये राम कहाँ।

2    5.7K 6

कविता बहती है

Inspirational

कविता कवि की ही ना होती, कवि की भावों पे ना चलती, थोड़ा समाज भी चलता है, दुख दीनों का भी फलता है।

1    5.6K 6

माँ

Drama Inspirational

माँ की कितनी बात सुनाऊँ, ममता की प्रतिमूर्ति ऐसी, देवी छोटी पड़ जाती है, धरती पे माँ कहलाती है।

5    13.2K 11

कंंगाल

Inspirational

छोटा-छोटी काम की बात, पढ़ो भले हो दिन या रात। छोटी-छोटी कवितओं की बड़ा संग्रह।

3    13.7K 5

ह्रदय दान

Comedy Drama

ह्रदय दान पर बड़े हल्के-फुल्के अन्दाज में लिखी गयी ये हास्य कविता है। यहाँ एक कायर व्यक्ति अपने ह्रदय...

1    6.8K 4

ये वकील दुनिया में नाम कर जाए

Others

ना हो दम केस में, फिर भी लड़वाएगा जेब भारी क्लाएंट की खाली करवाएगा। बिकेगा क्लाएंट का नाम ग्राम धा...

2    7.1K 6