ravindra kumar

Children Stories Others


5.0  

ravindra kumar

Children Stories Others


विचरण पार्ट-२

विचरण पार्ट-२

6 mins 419 6 mins 419

हमसब पहले भाग में बाते कर रहें थे कंप्यूटर की प्रारंभिक भेंट की। अब आगे कोशिश करूँगा कि इसी भाग में इतिश्री कर दूँ।मगर वक़्त ज्यादा लगा तो पार्ट्स में पाठकों तक पहुँचाने की कोशिश करूँगा। पिछले भाग में जो मैंने एक्सटर्नल कमांड का ज़िक्र किया था। वो कुछ ऐसा होता था कि बूटेबल डिस्क के साथ जो कमांड हमें मिल जाते थे, उन्हें इंटरनल कमांड कह देते थे।जिनमें मुख्यतः cd, md, rd, copy, copy con, dir, del इत्यादि होते थे। एक्सटरनल कमांड इन थोड़े कमांड्स को छोड़कर जो भी अलग से फ्लॉपी के द्वारा चलाना पड़ता था, उसे एक्सटरनल कमांड बोलते थे।

बाद में हमें जाके समझ आया कि ये कॉपी और कॉपी कॉन एक ही कमांड है। जिसमें हम मॉनिटर को पहली फ़ाइल के जगह पर रखते हैं और दूसरे फ़ाइल का कोई और नाम दे देते हैं।कॉन मॉनिटर को ही बोलते हैं। इसके साथ ही एक और रहस्यमय बात पता चली, विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में कॉन नाम का फोल्डर भी नहीं बना सकते क्योंकि कॉन तो मोनिटर का नाम है।

जैसे हम उसे लिखते है। copy filename from filename to इसकी जगह copy con filename to इसके बाद हम जो भी टाइप करते वो उस फ़ाइल में सेव हो जाती। लास्ट में F7 या कन्ट्रोल Z से बाहर आ जाते।

खैर ये सब तो बेसिक शुरुआती दौर था। ये सब उस समय इस्तेमाल करके खुराफात करने का मज़ा ही कुछ और था।

वाइल्डकार्ड नामक प्राणी से भी हमारी मुलाकात यहीं हुई। सिंपल सा ही था ये। जैसे * का मतलब इस जगह और इसके आगे कुछ भी हो और ? का मतलब था इस जगह कुछ भी हो।

ब्लैकहोल को आप * मान सकते हो वहाँ कुछ भी हो इग्नोर कर दिया जाता है, बस की एक खाली सीट को? वहाँ कोई या कुछ भी हो सकता है पर अगल-बगल जो है वही रहेगा।

शायद अच्छा उदाहरण ये न हो। यहीं पर हमें दुनिया की एक सबसे बेसिक चीज़ का पता चला। हुआ यूँ कि एक दिन हमें format कमांड की जानकारी दी जा रही थी। कुछ बताया जा रहा था कि इस कमांड से सारा डेटा डिलीट हो जाएगा और फ्लॉपी बिल्कुल नयी हो जाएगी। हमने पूछ लिया जब डिलीट से भी ये हो जाएगा तो फॉरमेट की जरूरत क्या है।

तब हमसे पूछा गया बताओ अपने घर का पता कैसे देते हो। हमने कह दिया फ्लैट न. ५६७, ट्विन टावर, बी टाइप, लोकेशन जिला, स्टेट। फिर उन्होंने हमें बताना शुरु किया। "बिल्कुल ऐसे ही डिस्क को फॉरमेट मतलब साफ सुथरा करकर उसमें गलियाँ और फ्लैट्स बनाते हैं जिसे ट्रैक और सेक्टर कहते हैं। जैसे हम अपने पते पे रहते हैं। वैसे ही हर डेटा का अपना पता होता है। वह डेटा वहीं रहता है। कोई भी डेटा जब हम कंप्यूटर से मांगते हैं तो वह अपनी डिक्शनरी देखता है। जहाँ हर डेटा का पता होता है। पता देखकर कंप्यूटर वो डेटा हमें दे देता है। इस डिक्शनरी को इंडेक्स टेबल कहते हैं।"

एक और खास बात हमें पता चली। ये डिलीट और फ़ारमैट को अनडिलीट और अनफ़ारमैट किया जा सकता है। कुछ शर्त है उसकी कि कोई नया फ़ाइल या डेटा न लिखा गया हो।

होता कुछ यूँ है कि जब भी हम कोई फ़ाइल डिलीट करते हैं तो फ़ाइल डिलीट होने के बजाय उसे डिलीट मार्क बस कर दिया जाता है और उसके नाम का फर्स्ट कैरेक्टर ग्रीक सिग्मा बन जाता है। जब अनडिलीट उसे करना होता है, तो फ़ाइल की मार्किंग हटा कर उसको पूरा नाम दे देते हैं।

अब बात करें दूसरे शर्त की तो होता यूँ है, जब हम नई फ़ाइल कॉपी करते हैं तो ऑपरेटिंग सिस्टम सर्वप्रथम डिलीट मार्क स्पेस को इस्तेमाल करते हैं। इसलिए डिलीट किये हुए डेटा की रिकवरी के चांस कम हो जाते हैं। फ़ारमैट की भी यही कहानी है।

एक और मुख्य चीज़ है बैच फ़ाइल। आज भी इसका बहुत प्रयोग होता है। इसमें एक फ़ाइल बना कर उसे .bat एक्सटेंशन से सेव कर दिया जाता हैI उसके बाद जब भी इसे रन करते हैं इसमें लिखा हर कमांड बारी-बारी से जिस क्रम में लिखा है, उसी क्रम में एक्सीक्यूट होता है। इसी को autoexec.bat के नाम से सेव कर दे तो बूट होने के साथ ये खुद ही एक्सीक्यूट हो जाता है। Autoexec का प्रयोग अब कम हो गया है, इसकी जगह स्टार्टअप ने ले ली हैI क्योंकि इसका दुष्प्रयोग बहुत से वायरस करने लगे थे।

अब वायरस आया तो ये क्या है। इसका जन्म कहाँ हुआ ये भी बता दे। जन्म इसलिए महत्वपूर्ण है क्यूंकि इस तरह के डिसट्रक्टिव चीज़ की ईजाद पाकिस्तान ने की है। फारूक अल्वी ब्रदर्स ने ये वायरस बनाया था। वायरस एक प्रोग्राम ही होते हैं जिनके काम डेटा चोरी से लेकर आपके कंप्यूटर को खराब करने का होता है। ये ऐसे प्रोग्राम होते हैं जो अलग-अलग तरीके से फैलते हैं और अपना काम करते रहते हैं। सामान्य लोगों को कुछ लालच देकर पढ़े लिखों को चूक फ्री में देकर बहुत टेक्नोलॉजी वाले को किसी जंक एप्लीकेशन द्वारा फैलकर परेशान करना ही इनका मुख्य कार्य है। बाकी फिर आगे महीनों तक एडिटर पे काम करना सिखाया गया। जो इतना मजेदार नहीं थे कि उनका जिक्र किया जाए।

मनोज सर की मुझपर बड़ी कृपा थी। दूसरे शिराज सर अपने चेले अभिषेक पर गर्व किया करते थे जो उनका पड़ोसी भी था।मनोज सर मुझे एक्स्ट्रा एक घण्टे प्रोग्रामिंग के बारे में बताया करते थे कभी-कभी। मुझे वो सब समझ में बिल्कुल नहीं आता क्योंकि वो केवल थेओरी बताते, उसको कैसे, कहाँ, क्यों करना है, ये नहीं बताते। मुझे वो सब सिर के ऊपर से गुजरता महसूस होता।

खैर कुछ दिनों बाद वो दिन भी आया जब हमें प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखना थे। जैसे कि मैंने पहले ही बताया था हमारी ताकझांक कर सीखने की आदत। हमने सिंपल सिंटेक्स और सिंगल लाइन प्रोग्राम का ज्ञान इसी विद्या की मदद से पहले ही प्राप्त कर ली थी।

अगले भाग में थोड़ी जानकारी प्रोग्रामिंग की। ना ना डरिये मत कि क्लास चल रही है। बस कुछ रियल लाइफ और कंप्यूटर वर्ल्ड की कहानी होगी।

सबसे पहले मैं ये बता दूँ कि आइंस्टाइन ने कहा था "सारे ब्रम्हांड का रहस्य उसके कण कण में है"। गीता में भी ऐसा ही सन्दर्भ है। जब अर्जुन को कृष्ण कहते हैं, "हे पार्थ, भूत भी मैं, भविष्य भी मैं, अंतरिक्ष भी मैं और कण भी मैं। कौरव भी मैं, पांडव भी मैं। समस्त प्राणियों में भी मैं और अप्राण में भी मैं।"

ब्रम्हांड को ही ले लेते हैं, एक सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाते कितने ग्रह हैं। ग्रहों पर आने पर, ग्रहों के चक्कर लगाने वाले उपग्रह हैं। एक कण पर भी प्रोटॉन और न्यूट्रॉन से बने नाभिक के चक्कर लगाने वाले इलेक्ट्रोन हैं।

प्रोटॉन धनात्मक शक्ति है जैसे सूर्य। धरती और हम उसकी ऊर्जा का उपयोग कर अपने सारे काम निबटाते हैं। सूर्य स्थिर है।आज के संदर्भ में वरना स्थिरता तो विनाश की निशानी है।

सूर्य भी चलायमान है।

वैसे ही प्रोटॉन धनावेशित शक्ति है। जिसके चारों तरफ ग्रह रूपी इलेक्ट्रान उसके चक्कर लगाते रहते हैं। इसके आगे का भी रहस्य विज्ञान ने ढूंढ लिया है। जिनकी व्याख्या करते हुए यहाँ हम मुद्दे से भटककर अध्यात्म की ओर चले जाएँगे।

इस विषय को यहीं छोड़ते हुए, अगले भाग में हम थोड़ी जानकारी प्रोग्रामिंग की लेंगे और अपने मुद्दे की ओर प्रस्थान करेंगेI


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design