Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बादल की बारात
बादल की बारात
★★★★★

© Reena Tyagi

Others

1 Minutes   6.6K    7


Content Ranking

सागर से उठ क्षितिज पथ पर
आ पहुंची बादल की बारात
सबसे आगे पगड़ी पहने
जम रहे दूल्हे बादल राज
पीछे ठुमकते बाराती बादल
उमड़-घुमड़ आलापते राग मल्हार।

दूसरी ओर से आई दुलहिन बादल
उमगते-लरजते सखियों के संग
लो आ गया मुहर्त वरमाला का
नभ पर छाए खुशियों के सतरंग।

दुल्हिन ने ज्यों वरमाला डाली
गरजने लगी मेघों की बारात
चमकी बिजुरिया, थिरके बादल
घरती ऊपर झूमा अलमस्त अंबर।

बरसे मेघ, भीगी धरती, हरषे मन
कोने-कोने पर चमका आशा-दर्पण
नववधू अंबर पर झूला झूले
करके सृष्टि के सोलह श्रृंगार।

                         

Rain

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..