Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Archana Misra

Others

1.0  

Archana Misra

Others

बस एक शब्द

बस एक शब्द

1 min
296


ना जाने कब से

मेरे सूने मन- आँगन में

उजियारा नहीं होता।

जाने कहाँ-कहाँ 

तुम्हें नहीं ढूंढा

कभी सूरज का द्वार,      

खटखटाया।

कभी चाँद के घर,

थाप दी।

कभी सितारों की घनी बस्ती में

तुम्हें घंटों तलाशा।

काश !

तुम कह जाती

तो मन तुम्हें यूँ न तलाशता

भटका मन

तृप्त हो जाता

बस तुम्हारे एक शब्द से

 " माँ ! "


Rate this content
Log in

More hindi poem from Archana Misra