Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Kritant Mishra

  Literary Colonel

जलना या पिघलना

Abstract

मैंने खुद को देखाज़िन्दगी के कुशलअभिनेता को देखा |  

1    7.1K 13

दरिया को साहिल से मिलना ही होगा

Abstract

सदा मुझसे जुड़ामेरा नाम हो तुम !यूँ कब तक रहोगे गुमयूं कब तक रहोगे गुम ?

1    6.7K 8

सुदूर समंदर-मध्य शीला पर

Abstract

विचारों से झुंझला उठा हूँछेड़ा मैंने आरोही साज़शंखनाद कर, कर रहा हूँनए युग का आगाज़ !

1    7.3K 20

धड़कती हमारी धड़कनें

Abstract

बाहों में भरकर मुझेहोंठो का जाम पिलायाख़ुद का कुछ भी नहीं बचा मेरे पास !बहता रग-रग मेंअब तो..वो ही मे...

1    7.0K 19

चोर-पुलिस खेलोगी मेरे साथ ?

Abstract

 तुम्हारी ज़िन्दगी सेकुछ लम्हों कोजो वक़्त के आगोश मेंकहीं छिपे पड़े हैं |

1    1.4K 15

अधूरी रात और मैं

Abstract

अधूरी रात       बिखरी ख़ामोशीऔर मैं ।सोचता हूँ कुछ लिखूँमगर क्या ?

1    7.4K 9

दो घड़ी का हमसफ़र

Abstract

बस मेरी एक बात मान लोअपने चाँद-से चेहरे कोयूँ ही मुस्कुराने देना ।क्या पता

2    7.2K 11

'मैं मगर बन चुका बग़ावत'

Abstract

मेरी ज़बाँ पर नहीं टिकती ज़माने की ख़राशजो मुझे बांध रहे हैं, उन्हें आईने से डरने दे ।मैं फिर ख्वाहिशें...

1    7.2K 21

तुम

Abstract

सितारों की महफ़िल में चाँद दीवानातुम्हारी हँसी से हर मौसम तराना, तुम्हारे सुरों की सिफारिश है ये भीहर...

1    1.6K 11