Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
क्या बताऊं...

क्या बताऊं तेरे आशिक गली गली में मिलते हैं, मेरे उपवन में भी फूल तेरे नाम से खिलते हैं, इंतजार तो बहुत हुआ है अब तक तो ए प्रियतमा, समय मिले गर तुम्हे कभी तो हम दोनों फिर मिलते हैं. ®रोहित_दांगी_रतलाम_मध्य प्रदेश!!

By रोहित दांगी
 316


More hindi quote from रोहित दांगी
21 Likes   0 Comments