@s7epp61t

Anita Bhardwaj
Literary Colonel
AUTHOR OF THE YEAR 2020 - NOMINEE

261
Posts
27
Followers
9
Following

यूंही खोते खोते ज़िन्दगी को, रुककर कुछ देर ढूंढ रही हूं खुद को, कागज़ और कलम में जी रही हूं खुद को।

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 08 May, 2021 at 12:41 PM

यात्रा इस जीवन की, जी कर पूरी करना, भाग दौड़ के चक्कर में, यूंही बिना जिए इस जीवन की यात्रा को ना खत्म करना!!

Submitted on 08 May, 2021 at 12:39 PM

जिंदगी तुझे सवाल दो चार करना चाहती हूं, होती है तू कैसी दिखने में तुझे सामने बिठा कुछ पल निहारना चाहती हूं!!

Submitted on 08 May, 2021 at 12:35 PM

दया की उम्मीद न रखना किसी से भी अपने बुरे वक्त में, पर तुम दया भाव जरूर रखना अपने अच्छे वक्त में!!

Submitted on 08 May, 2021 at 12:32 PM

ये संघर्ष की गरम हवा सहन कर लो अपना दिल थाम कर, सफलता हर मौसम बदल देगी, तुम्हारे दुश्मन भी आयेंगे तुम्हारे दर तुम्हें अपना मानकर!!

Submitted on 08 May, 2021 at 12:29 PM

मोह तो एक मां ही रखती है बस सच्चा, कितनी भी गलतियां कर लें, बन जाएं कितने भी बड़े, मां हमेशा कहती है; कोई बात नही मेरा बच्चा!!

Submitted on 08 May, 2021 at 12:26 PM

किसी देश की असली ताकत उसके लोगों की एकता है; जो साथ मिलकर चलते हैं, उन्हें कोई ना दुश्मन देखता है!!

Submitted on 08 May, 2021 at 12:22 PM

सकारात्मकता ही असल दवाई है, इस महामारी में खुद को बचाने की, सेहत के साथ साथ कोशिश करें मानसिक स्वास्थ्य को भी स्वस्थ बनाने की!!

Submitted on 08 May, 2021 at 12:19 PM

प्रौद्योगिकी के दौर में रिश्ते भी डिजिटल हो गए, छूट गए रिश्ते भी, अपने पराए, पराए अपने हो गए!! अनीता भारद्वाज

Submitted on 08 May, 2021 at 12:15 PM

दिल टूटा है, टूटी है उम्मीदें भी, टूटा है विश्वास भी, उड़ गई हैं नींदें भी!! अनीता भारद्वाज


Feed

Library

Write

Notification
Profile