@iq55bjcg

VIVEK ROUSHAN
Literary Colonel
191
Posts
188
Followers
0
Following

कविता पढ़ना और लिखना अच्छा लगता है |

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 29 Jun, 2019 at 08:34 AM

सोचता हुँ मेरा कातिल कितना मासूम है दर्द देकर मुझे न जाने वो कहाँ गुम है | #विवेक रौशन

Submitted on 29 Jun, 2019 at 08:28 AM

दरो-दिवार पर ये खून का धब्बा कैसे है सब अच्छे हैं फिर सरहदों पर लकीरें कैसे है | #विवेक रौशन

Submitted on 29 Jun, 2019 at 08:22 AM

जिनकी नज़रें मंज़िल पर होती है वो रास्तों की ठोकरों से नहीं डरते जिनके हौंसले बुलंद होते हैं वो हारने से कभी नहीं डरते | #विवेक रौशन

Submitted on 29 Jun, 2019 at 08:09 AM

चल पड़े जो रास्तों पर तो रुकना नहीं रुकावटें हज़ार आए पर कभी झुकना नहीं पत्थर से पत्थर टकराती है तो हीं चिंगारी निकलती है बार-बार ठोकर खाकर हीं तो मंज़िल मिलती है | # विवेक रौशन


Feed

Library

Write

Notification
Profile