Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Balram Agarwal

हवा में तैर रही ऐसी आवाजों को जिन्हें स्थूल कानों से सुनने में मनुष्य आम तौर पर अक्षम ही रहता है, कथा के माध्यम से अन्त:करण तक पहुँचा देने की कोशिश करता हूँ।

  Literary Colonel

सहारा

Inspirational

कुछ आपसी संकोचों ने 'परिवार' नाम की संस्था को विघटन के कगार पर ला खड़ा किया है। इस विघटन के कारण बड़े ...

8    15.0K 19

सहस्रधारा

Romance

    “सुनो, आखिरी स्टॉप से आधा किलोमीटर पहले ही उतार देना।” मैंने कण्डक्टर से विनती की और उसने सहस्रध...

6    7.0K 19

कबूतरी

Others

वोलंटरी रिटायरमेंट के बाद खन्ना जी अधूरी रह गई बचपन की अपनी आकांक्षाओं को नए सिरे में जीना शुरू कर द...

6    21.5K 13

दु:ख के दिन

Others

यह एक असहाय बूढ़ी माँ की कहानी है। वह एक विधवा है जिसके तीन बेटे हैं। वे अक्सर ही सम्पत्ति के बँटवारे...

3    13.5K 16