@2smm4zpu

pratibha dwivedi
Literary Colonel
AUTHOR OF THE YEAR 2020 - NOMINEE

23
Posts
8
Followers
0
Following

लेखन में रुचि है सोशल मीडिया पर लेखन करती रहती हूँ .... मैं प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान©के नाम से जानी जाती हूँ ।

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 28 Jun, 2019 at 13:20 PM

मोहब्बत नगीना है... रूह को चमकाने का...!! दिल को तोड़ कर किसी के ... रूह कालिख के नाम ना करो ..!! लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश ( 28 जून 2019 )

Submitted on 28 Jun, 2019 at 13:05 PM

राधा जीवन में पहले आई .... फिर भी रुकमणि अधिकारी है....!! कुदरत का कानून सदा से... रहा दिलों पर भारी है...!! लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश ( 28 जून 2019 )

Submitted on 28 Jun, 2019 at 12:59 PM

अपनापन जताकर लोग पहले दिल को जीतते हैं..!! जब चाहत बढ़ जाती है... तो दामन खींच लेते हैं ...!! लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश ( 28 जून 2019 )

Submitted on 28 Jun, 2019 at 12:55 PM

दिल टूटा है मगर हौसला नहीं .... बिगड़े मुकद्दर को हम फिरसे बना लेंगे..!! कोशिश अपनी जारी है..... हम वीराने को फिरसे.. गुलिस्तान बना लेंगे..!! लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश (28 जून 2019 )

Submitted on 28 Jun, 2019 at 12:45 PM

आँखे पथरा जातीं हैं.... जब दिल छलनी हो जाते हैं....!! जो आते हैं दिल को सहलाने.... वही दिल को तोड़ जाते हैं.....!! लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश ( 28 जून 2019 )

Submitted on 28 Jun, 2019 at 12:39 PM

ओ दिल तोड़ने वाले... कहाँ गये वादे तुम्हारे...!! कसम खाकर बोला था मेरी... ना भूलेंगे तुमको....!! फिर क्यों नहीं है... तू पास हमारे ....!!!! लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश ( 28जून2019)

Submitted on 28 Jun, 2019 at 12:30 PM

दिल रखते हो तो दिलदांर बनो... ना दिल को तोड़ने वाले हथियार बनो ..!! लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश ( 28 जून 2019

Submitted on 28 Jun, 2019 at 12:25 PM

जब कोई जज्बातों को ठेस लगाता है.. तो दिल टूट जाता है..... ऐसे में सिर्फ ईश्वर पर भरोसा करो... अपने दिल की हालत सबको बताते ना फिरो... लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश ( 28 जून 2019 )

Submitted on 24 Jun, 2019 at 23:59 PM

लो आ गई बहार.... बरसने लगा प्यार..... धरती का हरियाली से.... होगा अब श्रृंगार......!!! लेखिका--प्रतिभा द्विवेदी उर्फ मुस्कान© सागर मध्यप्रदेश ( 25 जून 2019)


Feed

Library

Write

Notification
Profile