तुम्हारा युं नझरों से नझरें मिलाना। और वो नझरों के झरियें दिल में समा जाना। -स्वाति पावागढी

By Swati Pavagadhi
 79