Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
शारीरिक...

शारीरिक कष्ट से कही ज्यादा, किसी की आत्मा को कष्ट पहुँचाना, सबसे बड़ा पाप मै समझती हूँ, क्योंकि शारीरिक चोट की दवा होती है, और प्रत्यक्ष दिखाई देती है, परन्तु आत्मा की पीड़ा व उसकी कराहट, न सुनाई देती है न दिखाई जा सकती है!! -सखी

By Shashi Prabha
 527


More hindi quote from Shashi Prabha
26 Likes   0 Comments
17 Likes   0 Comments
13 Likes   0 Comments
29 Likes   0 Comments
16 Likes   0 Comments