Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
इस बैरी...

इस बैरी चाँद पे जाने क्या रखा हैं ! तेरी परछाई रखी है ! या तेरा बूत रखा है ! पूछने जो गया उस महफ़िल में, मालूम हुआ, वहाँ कुछ और नहीं एक खत और तेरा ताबूत रखा हैं !

By AMIT SINGH
 206


More hindi quote from AMIT SINGH
17 Likes   0 Comments