Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
हमारे...

हमारे बुजुर्गो के दोस्त बहुत कम थे और हमारे, गिनती नहीं की जा सकती मगर बहुत याद करते हैं वे एक दूसरे को और हम , दो दिन बात न होने पर ही भूल जाते हैं

By Sanjana Dhurve
 377


More hindi quote from Sanjana Dhurve
22 Likes   0 Comments
40 Likes   1 Comments
1 Likes   0 Comments