@qo1jnno4

कुमार अशोक
Literary Captain
AUTHOR OF THE YEAR 2020 - NOMINEE

58
Posts
8
Followers
0
Following

गाँव के निम्न- मध्यमवर्गीय परिवार की पारम्परिक त्रासदियों में पले-बढ़े। जितना किताबों और स्कूलों ने नहीं पढ़ाया उससे ज्यादा समय , समाज और परिस्थितयों ने सिखाया । पत्थरों की बस्ती में रहकर भी दिल को मोम बनाए रखा । हमेशे से दूसरों के दर्द से गमज़दा होता हूँ और गैरों की खुशियों से खुश । लोगों... Read more

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 28 Nov, 2020 at 04:20 AM

चेहरे पे चेहरा लगाए जा रहे हैं लोग जाने क्या किससे छुपाए जा रहे हैं लोग चेहरे पर चस्पां है श्मशान का नक्शा मशीन की माफिक मुस्कुराए जा रहे हैं लोग - कुमार अशोक

Submitted on 22 Nov, 2020 at 18:48 PM

धर्म अपनाकर उसके इतर आचरण करनेवाला अधम है। धर्म के अनुरुप सदाचरण करनेवाला उत्तम है। कोई धर्म माने बिना सदाचरण करनेवाला सर्वोत्तम है। - कुमार अशोक

Submitted on 21 Nov, 2020 at 09:36 AM

तू जितना मुँह मोड़ती है मुझसे , दिल में उतनी ही बढ़ती जाती है तेरी चाहत । ऐ जिंदगी ! तू वाकई बड़ी हसीन है। - कुमार अशोक

Submitted on 21 Nov, 2020 at 09:17 AM

लोग जबसे कोट में गुलाब लगाने लगे हैं, कागजी फूल भी बहुत भाव खाने लगे हैं । - कुमार अशोक

Submitted on 19 Nov, 2020 at 01:55 AM

Happiness is never absolute; it is always comparative and is determined in comparison to your past. If you want to increase happiness, always choose the worst of your past for comparison . Lowering the comparison bar is the secret of happiness. - Kumar Ashok

Submitted on 18 Nov, 2020 at 17:42 PM

Politics is the most yearned for evil. - Kumar Ashok

Submitted on 15 Nov, 2020 at 05:08 AM

Negativity is an intoxication . The more you think of it , the more you are surrounded by them . It is a silent killer . - Kumar Ashok

Submitted on 01 Nov, 2020 at 06:33 AM

तेरी आजादी, उन्मुक्तता का, होता रहा विरोध, शिक्षा और स्वावलंबन में भी, झेले तू प्रतिरोध, बहुत हो गया सर्जन-वर्जन, ममता, करूणा बोध, संकल्प उठाओ, अहं जगाओ, सीखो करना क्रोध, नियम, नियंता, न्यायालय बन, ले लो प्रतिशोध । - कुमार अशोक

Submitted on 31 Oct, 2020 at 01:45 AM

ना कोई आकार है, ना प्रकार है ,ना सगुण है ना निर्गुण है । ना निराकार ना साकार है , ना मंदिर ना मजार है । ईश्वर तो एक विचार है । - कुमार अशोक


Feed

Library

Write

Notification
Profile