@py2mbqp1

Priyanka Singh
Literary Colonel
265
Posts
84
Followers
0
Following

शब्दों को समझना और समझाना चाहती हूँ ऐ जिंदगी तुझे मुस्कुरा के जीना चाहती हूँ

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 02 Aug, 2020 at 13:27 PM

वैसे तो अब मिलना होता साल दो साल मे कभी पर जरूरत पड़ने पर एक आवाज मे साथ सभी नही जरूरत दोस्ती के लिये किसी खास दिन की हमेशा खुश आबाद रहे रोज दुआओ मे माँगते यही जब जम जाये दोस्तों की मेहफिल मुस्कुराती जिंदगी कुछ दर्द दोस्त से कह पाते, बिन दोस्त अधूरी हर खुशी

Submitted on 19 Jun, 2020 at 12:07 PM

परिस्थिति के अनुसार जो रंग बदलना जानता है मतलब की इस दुनिया मे वही बुद्धिमान कहलाता है #कटु सत्य

Submitted on 15 Jun, 2020 at 10:22 AM

एक इच्छा पूरी होते ही दूसरी जग जाती है और हाथ लगी शांति अशांति मे बदल जाती है ये ही मानव रचित प्रकृति है शांति छुपी मन के अंदर, ऐशो आराम मे ढूंढी जाती है

Submitted on 11 Jun, 2020 at 14:05 PM

माता पिता की डाँट उनका समझाना हम बच्चों को कभी कभी खटकता जरूर है पर वही सीख बन कभी ना कभी याद आता जरूर है

Submitted on 10 Jun, 2020 at 14:49 PM

हम तो बारिश मे आज भी कागज की नाव चलाते हैं लोग क्या कहेंगे छोड़ बच्चों के संग भीग भी जाते है फिर चाय पकौडे़ माँ की डाँट पूरा बारिश का लुत्फ उठाते हैं

Submitted on 07 Jun, 2020 at 08:40 AM

ये जो भूकंप के झटके है, पृथ्वी के संदेशे है मानव के गलत कदम मुझको बहुत खटके है छूट रहा मेरा भी संयम मानव क्यों न समझे रे पृथ्वी प्रकृति पर्यावरण खुद से भी क्यों खेले रे!!

Submitted on 05 Jun, 2020 at 10:31 AM

पेड़ लगाओ, साइकिल चलाओ, पानी बचाओ पोलिथीन का त्याग , वन-पशु- पक्षी का ध्यान पर्यावरण से ही जीवन, रखो इसे स्वच्छ संभाल

Submitted on 01 Jun, 2020 at 08:18 AM

माता पिता की डाँट उनका समझाना हम बच्चों को कभी कभी खटकता जरूर है पर वही सीख बन कभी ना कभी याद आता जरूर है

Submitted on 01 Jun, 2020 at 08:13 AM

माता पिता भूल कर अपनी दर्द परेशानी कोशिश करते औलाद को खुशी आराम देने की औलाद भी दे मान सम्मान खुशियाँ हमेशा उन्हें बस दो हाथ जोड़ यही गुजारिश सबसे


Feed

Library

Write

Notification
Profile