@86qyk3mq

संजय असवाल
Literary General
AUTHOR OF THE YEAR 2020 - NOMINEE

230
Posts
74
Followers
2
Following

कविताएं कहानियां पढ़ने का शौक रखता हूं,कभी कभी मन के अंदर के भाव को व्यक्त करने के लिए कुछ लिख देता हूं,कहां तक सफल होता हूं पता नहीं बस लिख देता हूं अगर आपको मेरी अभिव्यक्ति के चंद अक्षर खुशियां दे सकें, तोअपना प्यार,आशीष इस लेखनी पर बना कर मुझे मेरी भावनाओं की अभिव्यक्ति को सार्थकता प्रदान... Read more

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 14 Sep, 2020 at 16:16 PM

वो बात करने से अब कतराने लगा है, आंख मिला कर नज़रे चुराने लगा है, उसके दिल में शायद किसी और ने दस्तक दे दी, इसलिए वो मुझसे मिलने से भी घबराने लगा है।

Submitted on 14 Sep, 2020 at 14:57 PM

परख न थी मुझे लोगों की, मुस्कराहट पे उनके यकीं कर बैठा, मतलबी,स्वार्थी चेहरों पर अपना दिल साझा कर बैठा।

Submitted on 13 Sep, 2020 at 17:45 PM

बेवजह तो ना था तुमसे यूं मिलना, गुजरे पलों का हिसाब जो बाकी था तुमसे।

Submitted on 13 Sep, 2020 at 16:35 PM

उसकी मुस्कराहट के दीवाने थे कभी हम, आज ये सोच के हम हंस देते हैं। नींदों में ना जाने क्यूं मेरे ब्रेक सा लग गया, जब से मुझे उनसे थोड़ा सा इश्क हो गया। दिल में तूफ़ान दिमाग में हलचल सी है, पता नहीं हमे कहां जाना था और हम कहां पहुंच गए। बेवजह तो ना था तुमसे यूं मिलना, गुजरे पलों का हिसाब जो बाकी था तुमसे। खुद को मुझसे कभी दूर ना करना, तेरे कांधे की जरूरत उम्र भर रहेगी मुझे।


Feed

Library

Write

Notification
Profile