Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
तु कुछ न...

तु कुछ न बोले मैं समझ जाऊँ मुझे चोट लगे तुझे दर्द हो तु खुश हो और मेरी आँखें छलकें मेरे लिए तु दुनिया से लड़ जाए चाहे कोई भी तुफान आ जाए हमारी दोस्ती पर कोई आंच न आए। ऐ दोस्त हमारी दोस्ती की कसम तब तक दोस्ती निभाऊँगा जब तक मेरी साँसें न हो जाए ख़त्म।

By Rekha Maity
 350


More hindi quote from Rekha Maity
23 Likes   0 Comments
28 Likes   0 Comments
27 Likes   0 Comments
11 Likes   0 Comments
25 Likes   0 Comments