Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
रुसवाइयाँ...

रुसवाइयाँ मिली मोहब्बत को ज़मानेवालों से बनकर रह गई ख़ामोशियाँ ज़िंदगी का हिस्सा दास्तान-ए-चाहत रहकर मगर दिलों में ज़िन्दा पाओगे पन्नों में इबादत के बंदगी का किस्सा शीतल विशाल यादव

By Shital Yadav
 267


More hindi quote from Shital Yadav
13 Likes   0 Comments
23 Likes   0 Comments
18 Likes   0 Comments
11 Likes   0 Comments
21 Likes   0 Comments