Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
आज़ाद हूं...

आज़ाद हूं विचारों से मन के सुविचारों से रहती हूं एक दायरें में बंधी हुई संस्कारों से कभी खरी उतरती उम्मिदों पर कभी रहती ज़िद पर पानी है मुझें मंजिल गिरकर और संभलकर

By Anju Singh
 169


More hindi quote from Anju Singh
1 Likes   0 Comments
1 Likes   0 Comments
4 Likes   0 Comments
20 Likes   0 Comments
13 Likes   0 Comments