@zf6dqpx7

Omdeep Verma
Literary Colonel
59
Posts
55
Followers
0
Following

Punjabi lyricist, Poet

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 13 Mar, 2020 at 12:41 PM

जिन्दगी का सफर भी कितना अजीब है ना हमसफ़र तो हजारों हैं पर आखिरी स्टाॅप तक साथ पहुँचने वाला कोई नहीं है।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 12 Mar, 2020 at 09:56 AM

नींद को बेचा है हमने ख्वाब अधूरे रहने नहीं देंगे।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 11 Mar, 2020 at 10:34 AM

एक वक्त था हम जैसे बच्चे माँ के सीने से लिपटे रहते थे और आजकल के सिनेमा में माशूकाओं से चिपके रहते हैं 😂😂😂😂

Submitted on 10 Mar, 2020 at 02:43 AM

खामोश तेरे लबों के लिए मुस्कराहटों का तोहफ़ा लाया हूँ। सारी जिंदगी उतरे ना जो प्रेम रंग लगाने आया हूँ।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 09 Mar, 2020 at 02:16 AM

मेरा तो हर दिन होली हो जाता अगर तू अपनी रंग-बिरंगी दुनिया का एक रंग मुझे दे जाती।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 08 Mar, 2020 at 10:30 AM

मेरी पहचान मत पूछो मैं किसी की माँ किसी की बहन किसी की बीवी तो किसी की बेटी हूँ।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 21 Feb, 2020 at 12:19 PM

बस तेरे ही नशे में चूर हूँ भोले दुनियादारी से दूर हूँ भोले तेरा हाथ है सिर पर मेरे इसीलिए थोड़ा मगरूर हूँ भोले।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 12 Feb, 2020 at 08:56 AM

शायद वो कोई और ही था जो मुझे छोड़कर चला गया मेरा यार तो एक पल की भी दूरी सह नहीं सकता था । ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 10 Feb, 2020 at 08:26 AM

क्यों सौदा दिल का करने पर तुले हो तुम कीमत नहीं चुका पाओगे मेरे जज्बातों की।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 07 Feb, 2020 at 19:30 PM

कहाँ जरुरत उसे गुलाब की खुद में महक ऐसी है कि फूल उस से जवानी मांगने आते हैं।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 07 Feb, 2020 at 19:19 PM

जिसमें एक -एक लफ्ज छाप दिया हमने उनका उसे वो चंद पन्नों की डायरी समझ बैठे हमने कुछ इस तरह किया इजहार मौहब्बत का और वो कमब्खत उसे शायरी समझ बैठे।। ✍️✍️Omdeep verma

Submitted on 30 Jun, 2019 at 17:54 PM

कमबख़्त उसकी तस्वीर भी हमेशा शराब की बोतल में ही दिखती है काश ! कभी जहर की बोतल में दिख जाए ।।

Submitted on 27 Jun, 2019 at 10:41 AM

होता नहीं आसान कामयाबी का परचम लहराना कितनी रातें जागना पड़ता है एक सपने को पुरा करने के लिए ✍️Omdeep verma

Submitted on 27 Jun, 2019 at 10:36 AM

किस्मत ने आज फिर मुझे तोहफे में दर्द दिया क्योंकि उसे भी पता कि बहुत अनुभव है मुझे दर्द सहने का


Feed

Library

Write

Notification

Profile