@xvxsjvif

Akanksha Gupta (Vedantika)
Literary Colonel
AUTHOR OF THE YEAR 2020 - NOMINEE

933
Posts
248
Followers
5
Following

I am a girl with disabilities and a writer who writes stories and poems mostly in hindi.

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 30 Jun, 2021 at 18:00 PM

इम्तिहान-ए-नुमूद हमारा कई बार हुआ बार-बार मरके हमारा जीना कई बार हुआ

Submitted on 29 Jun, 2021 at 18:07 PM

मग़्मूम बहुत से चेहरे यहाँ घूमते हैं हँसी में हम आँसू लिए घूमते हैं

Submitted on 27 Jun, 2021 at 17:49 PM

तरन्नुम की ख्वाहिश में मरकज़-ए-इश्क़ बनाया है उन्हें हमने अपने दिल का मुहाफ़िज़ बनाया है

Submitted on 26 Jun, 2021 at 17:55 PM

बरसों से कैद हूँ अपने ही महबस-ए-ख़याल में खुद ही एक सवाल हूँ अब ज़िंदगी के सवाल में

Submitted on 25 Jun, 2021 at 18:26 PM

उस आलिम का नाम भी जाहिलों में शुमार हो गया जिसने देखा था इबादत को मजहब की नज़रों से

Submitted on 25 Jun, 2021 at 18:20 PM

उस आलिम का नाम भी जाहिलों में शुमार हो गया जिसने देखा था इबादत को मजहब की नज़रों से

Submitted on 23 Jun, 2021 at 17:55 PM

नज़ारा-ए-मिस्मार-ए-ज़ीस्त ज़माना देखने आया कसर ना रह जाए कोई बर्बादी में ये देखने आया

Submitted on 19 Jun, 2021 at 16:51 PM

नन्हें से कंधो पर बोझ उठाया करती हैं जीने के तरीके फिर आज़माया करती है

Submitted on 17 Jun, 2021 at 18:12 PM

आगे नाथ न पीछे पगहा जीवन कटे फकीर सा ना धन भावे बस अन्न पावे लक्ष्य बस हर भोर का


Feed

Library

Write

Notification
Profile