Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Kunal Kushwah

  Literary Captain

स्थान

Others

कमल की मंद मुस्कान देखता हूँ , अमल की छंद थकान देखता हूँ , प्रभात किरण की लाली में बैठे, तेरे होठों ...

1    6.9K 0

तरस रहे हैं

Others

फलक बनी है तेरी आँखें, राही को न तड़पाओ आलिंगन को तरस रहे हैं, अब तो न तुम शरमाओ। 

1    6.6K 0

कायनात ख़ुदा लगती है

Others

हंसी तेरी गालों पे, जो भंवर बना उड़ती है, और कभी उन गालों पे, शर्म सदा पलती है, नज़र जो यूँ मुझे , व...

1    6.5K 1

लगन

Others

पगडण्डी पर छाँव पड़े जब यौवन लालि इठलाए साँझ पड़े और भाव बढे तब खनक चाल की मचलाए सनम मगर तेरी हामि का ...

2    1.1K 0

वाणि

Others

नीरज पूर्ण जलाशय सी, सुनो अपनी कहानी है, पवन के स्नेह के धीरज सी, मेरी प्यासी सी वाणि है। 

2    6.6K 0

वचन

Others

कफ़न देख रहे हैं, आश्वस्त रहने दो ज़रा, वचन दे रहे हैं तुम्हें, प्रेम रस बहने तो दो ज़रा । 

1    7.1K 0